Abhay sinha

मां ने प्यार से हमारा नाम अभय रखा है. रहने वाले लखनऊ के हैं. सूचनाओं को ठेलने के युग में हम ख़बरों से खेलने में लगे हैं. हमें Satirist मानने वालों पर सरकार कोई टैक्स नहीं लगाती है. शौक़ सिर्फ़ कलाकारी का रहा है, जिसे हम समय-समय पर व्यंग्य, शायरी और कविता के ज़रिए पूरा कर लेते हैं. हमारी प्रेरणा आरक्षित नहीं है. हमें कभी भी, कुछ भी प्रेरित कर सकता है. लाइफ़ से सिर्फ़ इतना चाहिए कि ज़िंदा महसूस करता रहूं.

Part-2: ये 19 Optical Illusions बता रहे हैं कि आंखों का देखा हुआ हमेशा सच नहीं होता

इन 15 तरीकों से विज्ञापन वाले हमें मूर्ख बनाते हैं और हम ख़ुशी-ख़ुशी बन भी जाते हैं

हाथ से नहीं, मुंह से बाल काटता है ये शख़्स, जानिए कैसे एक हेयर स्टाइलिस्ट बन गया ‘सुपर हीरो’

चिलम फूंकने वालों ने लिखी हैं हिंदी अख़बारों की ये 20 हेडलाइन्स, पढ़कर चकरा जाएंगे आप

क्या आपने कभी दूसरों की पत्नियां चुराने वाले त्योहार के बारे में सुना है?

फ़ोटोशॉप के इन महारथियों को मिलनी चाहिए 21 तोपों की सलामी, ऐसी कलाकारी रोज़ देखने को नहीं मिलती

प्राचीन भारत के वो 10 घातक हथियार, जिनके आगे खड़ा होना मौत को दावत देना है

‘कॉन्डम’ समेत दुनिया की सबसे पुरानी इन 16 चीज़ों का बचा रहना किसी अजूबे से कम नहीं