किसी भी स्त्री के लिए मां बनने से ज़्यादा बेहतर अहसास कुछ नहीं हो सकता. कहते हैं मां बनने के बाद कोई भी स्त्री पूरी हो जाती है, लेकिन बड़े अफ़सोस की बात है कि सुविधाओं के अभाव के कारण, अधिकतर महिलाओं का मां बनने का सपना अधूरा रह जाता है.

गर्भवती महिलाओं के लिए कुछ बातें हैं, जिन पर ध्यान देने की ज़रूरत है. कोई शहरी महिला जब मां बनने वाली होती है, तो डॉक्टर और परिवार वाले उसे फूंक-फूंक कर कदम रखने और बेड रेस्ट करने की सलाह देते हैं.

वहीं ग्रामीण महिलाओं के साथ बिल्कुल उल्टा होता है. वो अपने बच्चे का भविष्य बनाने के लिए काफ़ी मेहनत करती हैं. एक-एक रुपये जोड़-गांठ कर रखती हैं, ताकि उनके आने वाले बच्चे को किसी प्रकार की कोई दिक्कत न हो. गर्भवस्था के दौरान गांव में रहने वाली महिला, चूल्हा फूंकने से लेकर हर वो काम करती है, जो उसके और उसके आने वाले बच्चे के लिए ख़तरनाक साबित हो सकता है.

आकड़ों के मुताबिक, गर्भवस्था के दौरान Precaution न लेने की वजह से रोज़ाना 830 महिलाओं की मौत हो जाती है. 2015 में ये संख्या 303,000 थी.

वहीं World Health Organisation ने चौंका देने वाला ख़ुलासा करते हुए बताया है, कि 'Indoor Gas Exposure' के कारण सालाना 4 Million, यानि 40 लाख गर्भवती महिलाओं और उनकी कोख़ में पल रहे बच्चे की मौत हो जाती है.

गर्भवस्था के दौरान बहुत सारी महिलाएं, उन्हें और उनके होने वाले बच्चे को नुकसान पहुंचाने वाली चीज़ों को अकसर नज़रअंदाज़ कर देती हैं. या तो उन्हें इस बात का पता नहीं होता कि वो क्या कर रहीं, या फिर वो समझना नहीं चाहती हैं. अब इन महिलाओं के लिए एक ऐसी ही टेक्नोलॉजी आ गई है, जो प्रेग्नेंसी के दौरान सुरक्षा कवच बनकर उनकी रक्षा करेगा.

इसी समस्या का समाधान ढूंढ़ निकाला है, बांग्लादेश से बाद बाहर स्थित कंपनी COEL (Carbon Monoxide Exposure Limiter) ने. विकासशील देशों में रहने वाली महिलाओं के लिए गर्भवस्था के दौरान ये काफ़ी कारागार साबित होगा. खाना बनाते वक़्त धुएं से बच्चे और मां की जान को ख़तरा हो सकता है, इसकी चेतावनी देते हुए COEL उन्हें अलर्ट करेगा.

COEL दिखने में कंगन जैसा है, जिसे गर्भवती महिलाएं हमेशा आसानी से अपने हाथ में पहने रह सकती हैं. हानिकारक वातावरण में कंगन बीप करने लगता और बताता है कि अब आपको एक सुरक्षित स्थान पर जाना चाहिए. इस कंगन की सबसे बड़ी ख़ासियत ये है, कि ये 80 तरीके की भाषाओं में बात कर सकता है. समय-समय पर ये महिलाओं को बताता रहता है, कि कब उन्हें दवाइयां लेनी है और कब उन्हें डॉक्टर के पास जाना है.

वाकई ग़ज़ब की टेक्नोलॉजी खोज़ निकाली हैं. अकेली रह रही गर्भवती महिलाओं के लिए काफ़ी मददगार साबित होगा.