वक़्त-वक़्त की बात है, जो चीज़ लोगों को पहले नामाकूल बनाती थी आज लोग उसी से कूल लगने लगे हैं. पहले जिसे असभ्य होने की निशानी माना जाता था, आज वही चीज़ ट्रेंड बन गई है. जी मैं दाढ़ी की बात कर रहा हूं.

हमने लोगों से दाढ़ी से जुड़ी कहानियां जाननी चाही, तो कुछ एेसे जवाब मिले:

Representational Image
शादी से पहले मेरी मां ने मेरे होने वाली पति को शेविंग किट दी ताकि वो साफ़-सुथरे हुलिए में बारात ले कर आए. शादी से 15 दिन पहले उसने क्लीन शेव कर ली. मां ने उसे देखते ही पूछा, 'दोबारा उगने में कितने दिन लगेंगे?'
आकांक्षा थपलियाल
Representational Image
दोस्त को एयरपोर्ट पर सिक्योरिटी वालों ने रोक लिया क्योंकि जब पासपोर्ट बनवाया था, तब ख़ूब सारी दाढ़ी थी. ट्रेवल करने से घंटे भर पहले उसने क्लीन शेव करा ली थी.
संचिता पाठक
Representational Image
शक्ल बच्चों जैसी थी इसलिए पहले मेरी बातों को कोई गंभीरता से नहीं लेता था. अब किसी होने वाले पत्रकार की बात गंभीरता से न ली जाए, तो फिर करियर कैसे बनेगा, इसलिए मैंने दाढ़ी रखनी शुरू कर दी.
रवि गुप्ता
Representational Image
स्कूल में बस हमारे एक दोस्त की दाढ़ी आती थी, लेकिन चाहिए सबको थी. सबने उससे दाढ़ी उगाने का तरीका पूछा. उस कमीने ने सबको हेयर रिमूवल क्रीम लगा दी. जो थोड़ी बहुत आ रही थी, वो भी चली गई.
महिपाल बिष्ट
Representational Image
ऐसा कोई शौक़ नहीं थी दाढ़ी रखने का, लेकिन जब पहली बार ख़ुद से शेव किया था तब लहु-लुहान हो गया था. उस डर से ही दाढ़ी रखनी शुरू कर दी.
कुंदन कुमार

ये तो इन लोगों के अनुभव हैं. आप दाढ़ी के बारे में क्या सोचते हैं, अपने अनुभव हमें कमेंट बॉक्स में ज़रूर बताएं.