कहते हैं प्यार में कोई शर्त, नियम, क़ानून नहीं होता. प्यार में कोई ऊंच-नीच, जात-पात नहीं होती, प्यार बस प्यार होता है. वैसे भी अगर इन सब बातों को देखकर प्यार किया गया, तो क्या प्यार किया . दोस्तों आपने कई बार फ़िल्मों, सीरियल्स और कहानियों में प्यार की कई अनोखी कहानियां सुनी होंगी. लेकिन आज हम आपको रील लाइफ नहीं, बल्कि रियल लाइफ की एक ऐसी प्रेम कहानी के बारे में बताने जा रहे हैं, जो दिल्ली की एक बदनाम गली में शुरू हुई और अब शादी के अंजाम तक पहुंच गई.

ये कहानी है एक लड़की, जो एक सेक्स वर्कर है और एक लड़के की जो कभी उसका ग्राहक था. दो साल पहले लड़का और लड़की की दिल्ली के एक बाज़ार में मुलाक़ात हुई, और दोनों को एक-दूसरे से प्यार हो गया. उसके बाद लड़का लड़की से मिलने के लिए ग्राहक बनकर जीबी रोड स्थित वेश्यालय जाने लगा. दो साल तक ये सिलसिला ऐसे ही चलता रहा और दोनों का प्यार गहराता गया. दोनों का प्यार इतना गहरा हो गया कि दोनों ने शादी का फैसला कर लिया.

Source: wordpress, Representational Use Only

अब प्यार तो कर लिया लेकिन उसको अंजाम तक पहुंचाना इतना आसान भी नहीं था. क्योंकि वेश्यावृत्ति के दलदल से बाहर निकल पाना बहुत जोखिम भरा काम है. इसलिए लड़का पहले लड़की को उस जगह से आज़ाद करना चाहता था. और लड़की भी खुली हवा में सांस लेना चाहती थी. लेकिन लड़के ने लड़की को इस नरक से आज़ाद कराया.

अब यहां से शुरू हुई दोनों की ज़द्दोजहद. लड़की आज़ाद कराने के लिए लड़के ने दिल्ली महिला आयोग की मदद ली. महिला आयोग और पुलिस ने मिलकर इस वेश्यालय पर छापा मारकर लड़की को छुड़ाया.

महिला आयोग के एक सीनियर अधिकारी ने बताया, 'कुछ दिन पहले हमारे पास एक लड़के का फ़ोन आया और उसने बताया कि वो जीबी रोड स्थित कोठा नंबर 68 में काम करने वाली एक लड़की से प्यार करता है. वो भी इस पेशे को छोड़ना चाहती है और अपनी ज़िन्दगी उसके साथ बिताना चाहती है.'

इसके बाद दिल्ली महिला आयोग के कुछ सदस्य, शक्तिवाहिनी एनजीओ के मेंबर्स और लोकल पुलिस रेड मारने के उद्देश्य से इस कोठे पर पहुंचे. काफी जद्दोजहद के बाद लड़की को वहां से आज़ाद करवाया गया. इसके साथ ही उन्होंने बताया कि 27 साल की ये लड़की 2015 में नेपाल में आये भयानक भूकंप के बाद दिल्ली आ गई थी और किसी ने काम दिलाने के बहाने उसे कोठे पर बेच दिया था. तब से वो इस पेशे में है.

कई मुश्किलों को झेलने के बाद आखिरकार ये लड़की अब आज़ाद है और अपने प्रेमी के साथ है. लड़की का कहना है कि उसकी बात लड़के के घरवालों से भी होती है और उनको इस रिश्ते से कोई आपत्ति नहीं है. वहीं लड़के ने बताया कि उसने अपने परिवार को भी इस शादी के लिए तैयार कर लिया है और जल्द ही वो दोनों शादी करके अपना घर बसायेंगे.

Source: intoday, Representational Use Only

जीबी रोड राजधानी दिल्ली का सबसे बड़ा रेड़ लाइट एरिया है जिसके बगल से ही ही नई दिल्ली रेलवे स्टेशन की लाइन भी जाती है. यहां करीब 93 वेश्यालय हैं, जिनमें तकरीबन 3500 सेक्स वर्कर्स काम करती हैं. यहां सेक्स वर्कर्स के करीब 800 बच्चे भी रहते हैं, जिनकी ज़िम्मेदारी कई NGO ने ले रखी है.

हालांकि, दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल काफी समय से इसे बंद करने की कोशिशों में हैं. लेकिन उनको कुछ ख़ास सफ़लता हासिल नहीं हो पायी. मगर कुछ दिनों पहले वो लोग यहां से 15 साल की एक नाबालिग लड़की को बचाने में कामयाब हुए थे. दिल्ली के इस रेड लाइट एरिया में नेपाल, सिक्किम, पश्चिम बंगाल, ओडिशा, असम और झारखंड जैसी जगहों की बहुत लड़कियां रोजी-रोटी के लिए काम करती हैं.

स्वाति मालीवाल ने कहा, 'जीबी रोड को चलाने में तस्करों और दलालों का काफी मजबूत गठजोड़ है, ये लोग लड़कियों की मजबूरी का फायदा उठाकर जीबी रोड के इस दलदल में डाल देते हैं. मैं इसको बंद कराने के लिए पूरी कोशिश कर रही हूं, ताकि कई मासूमों की इस नरक से निकाला जा सके. जल्द ही जीबी रोड की ये बदनाम गली बंद होनी चाहिए.'

ग़ज़बपोस्ट की ओर से इन दोनों को ढेर सारी शुभकामनाएं.

Source: indiatoday