ट्रेन में सफ़र कर रहे यात्रियों को अब चलती ट्रेन या फिर व्यस्त प्लेटफ़ॉर्म पर होने वाले क्राइम की सूचना देने के लिए, अगले स्टेशन का इंतज़ार नहीं करना पड़ेगा. दरअसल, अगले हफ़्ते से गर्वमेंट रेलवे पुलिस (जीआरपी) एक विशेष नबंर जारी करने जा रही है. 1512 इस नबंंर पर कॉल कर पैसेंजर्स चलती ट्रेन में होने वाले क्राइम की सूचना दे कर, अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं. वहीं जीआरपी इस हेल्पलाइन के जरिए पैसेंजर्स तक तुरंत मदद और सिक्योरिटी पहुंचाएगी.

हिंदुस्तान टाइम्स से बातचीत के दौरान जीआरपी के आयुक्त निकेत कौशिक ने बताया, 'इस हेल्पलाइन के ज़रिए यात्री मुसीबत के वक़्त मामले की सूचना सीधे अधिकारियों को दे सकते हैं, जिससे अधिकारी उन्हें तुरंत सुरक्षा प्रदान कर सकें.' साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि ये हेल्पलाइन एक बड़े पैमाने पर महिलाओं के साथ हो रहे अपराधों से निपटने में कारगर साबित होगी. किसी भी घटना की सूचना मिलने पर जीआरपी 5 मिनट के अंदर ही अपनी प्रतिक्रिया देगी.

वहीं जीआरपी के अधिकारी ने बताया, 'पिछले कुछ वर्षों से ट्रेन में हो रहे अपराधों को रोकने के लिए हमें काफ़ी दिक्कतों का सामना करना पड़ा रहा है, क्योंकि जब भी कोई कंट्रोल रूम में अपनी शिकायत दर्ज कराता है और हम कुछ ऐक्शन लेते हैं, तब ट्रेन दूसरे स्टेशन के लिए निकल पड़ती है.'

Image Source : localpress

अधिकारी ने ये भी बताया, 'नई प्रणाली पूरी तरह डिजिटल है. दरअसल, शिकायत मिलने पर कंट्रोल रूम में बैठा कर्मचारी कंप्यूटर के ज़रिए, प्लेटफ़ॉर्म पर तैनात पुलिसवाले को तुरंत घटना की सूचना देगा. इधर जीपीएस के ज़रिए यात्री की प्रेज़ेंट लोकेशन का पता लगाकर, उसे तुरंत सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी.'

निकेत कौशिक का मानना है कि 'हेल्पलाइन सिस्टम सक्रिय हो जाने के बाद चोरी, यात्रियों के बीच झगड़े, खोए हुए सामान की शिकायतें और महिलाओं के साथ हो रहे अपराधों में गिरावट आने की संभावना है.'

Source : Hindustantimes