2015 में रिलीज़ हुई फ़िल्म 'बाहुबली-1' और 2017 में रिलीज़ हुई फ़िल्म 'बाहुबली-2' ने सफ़लता के नए-नए आयामों को छुआ है और आये दिन इसकी सफ़लता के नए रिकार्ड बनते ही जा रहे हैं. 'बाहुबली-2' अपनी रिलीज़ के बाद से अभी तक 1000 करोड़ से भी ज़्यादा की कमाई कर चुकी है. फ़िल्म के निर्देशक हो या प्रोड्यूसर या फिर एक्टर्स किसी ने भी फ़िल्म को बेहतरीन बनाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी थी. कलाकारों के कपड़ों से लेकर उनकी बॉडी और फ़िल्म की लोकेशंस तक पर खूब पैसे भी खर्च किये गए. ख़बरों की मानें तो, फ़िल्म के कलाकारों की बॉडी बनाने पर ही डेढ़ करोड़ रुपये खर्च कर दिए गए थे.

Source: indiatimes

इसमें कोई शक नहीं है कि ये फ़िल्म इंडियन सिनेमा की बेहतरीन फ़िल्मों से एक है. 'बाहुबली-1' के आने के बाद से ही हर कोई 'बाहुबली-2' के रिलीज़ होने का इंतज़ार कर रहा था. सबको ये जो जानना था कि आखिर कटप्पा ने बाहुबली को क्यों मारा था. हालांकि, अब लोगों को आईएस सवाल का जवाब मिल चुका है.

खैर, आज हम आपको इस ब्लॉकबस्टर हिट फ़िल्म में हुई कुछ ऐसी गलतियों के बारे में बताएंगे, जिन पर आपका ध्यान ही नहीं गया होगा. और वैसे भी जब फ़िल्म के डायरेक्टर एस.एस राजामौली इन गलतियों को नहीं पकड़ पाए तो आप तो मनोरंजन के लिए ये फ़िल्म देखने गए थे.

आइये तो अब आपको बताते हैं 'बाहुबली-1' में हुई कुछ छोटी-छोटी साधारण सी गलतियां.

Source: jhakaasmovies

फ़िल्म में जब बाहुबली पहाड़ पर चढ़ रहा था, तो उस वक़्त उसके पैर में जूते नहीं थे, लेकिन जब वो पहाड़ पर पहुंचा तब उसके पैर में जूते थे. आखिर पहाड़ पर चढ़ते-चढ़ते उसके पैर में जूते कहां से आए थे.

Source: quora

आम ज़िन्दगी में अगर किसी को कोई साधारण सी चोट या कट लगता है, खून की नदी तो नहीं बहने लगती है, मगर बाहुबली की नसों कुछ ज़्यादा ही खून था, तभी तो छोटे से कट से इतना खून निकला कि खून की धार ही बहने लगी.

Source: quora

एक सीन में राजकुमारी अवंतिका ने स्लीवलेस ड्रेस पहनी थी, लेकिन अगले ही सीन में वो फुल स्लीव्स वाली ड्रेस में आ जाती हैं और अपनी बाजू को ऊपर उठाकर अपना टैटू दिखाती हैं.

Source: quora

ये कारनामा तो फ़िल्मों में ही हो सकता है. जब भाल्लालदेव की प्रतिमा को खींच रहे बूढ़े व्यक्ति का संतुलन बिगड़ जाता है, तो बाहुबली आकर उनको संभालता है और रस्सी को खींचने लगता है, लेकिन क्या वो इस ढीली रस्सी को खींच रहा था. इसके पीछे कौन सी साइंस है.

Source: quora

जब बाहुबली का बेटा शिवुडू माहेष्मती के पास से बाहर आता है, तब उसके कपड़े बदल जाते हैं. यह हैरान करने वाली बात है क्‍योंकि जब वह अंदर उनके पास जाता है, तब वो दूसरे कपड़े नहीं ले जाता है.

Source: quora

फ़िल्म के Pacha Bottesi गाने में एक्‍ट्रेस तमन्ना भाटिया नीले रंग की बिना नॉट वाली एक ड्रेस पहने नज़र आती हैं, लेकिन गाने के आख़िर में उनकी ड्रेस में रिबन की नॉट दिखाई जाती है. अब ये कहां से आ गई, ये तो तमन्ना ही बता सकती हैं.

Source: quora

फ़िल्म का एक दमदार सीन वो था, जब देवसेना यानी कि अनुष्का शेट्टी को एकदम साफ़ सुथरे मैदान से लकड़ियां बीनते हुए दिखाया जाता है, लेकिन हैरान करने वाली बात ये थी कि उस जगह पर न ही कोई पेड़ था और नहीं किसी पत्ती का नामो-निशान.

Source: quora

अगर किसी को लम्बी दूरी की छलांग लगानी है, तो उसको थोड़ी दूरी से भागकर आना होगा, ताकि बॉडी का मूवमेंट बना रहे. मगर बाहुबली बिना दौड़े ही एक पहाड़ से कूद कर दूसरे पहाड़ पर पहुंच जाते हैं.

Source: quora

फ़िल्म के उस गाने में, जिसमें बाहुबली, अवन्तिका का पीछा कर रहे होते हैं, तो उसी दौरान वो पेड़ों की जड़ों के झुंड में फंस जाते हैं. मगर जब वो बाहर आते ,हैं तो वहां एक ही जड़ होती है.

Source: india

कटप्पा द्वारा बाहुबली की कहानी सुनाये जाने के दौरान वो उन बातों को भी बताते हैं, जो उनके सामने हुई भी नहीं थीं. जैसे बल्लालदेव द्वारा बाहुबली को मरने के लिए रस्सी का काटा जाना.

आइये अब जानते हैं 'बाहुबली-2' में हुई कुछ गलतियों के बारे में:

Source: india

फ़िल्म 'बाहुबली-2' में अवंतिका यानी तमन्ना भाटिया का कोई रोल ही नहीं दिखाया गया है, और न ही उनको एक भी डायलॉग नहीं दिया गया है. जबकि 'बाहुबली-1'में राजकुमारी अवंतिका का एक अहम किरदार था.

Source: hindustantimes

'बाहुबली-1' में भल्लाल देव के बेटे को बाहुबली से युद्ध करते दिखाया गया था. लेकिन 'बाहुबली-2' में उनकी पत्नी को दिखाया ही नहीं गया. यहां तक कि फिल्म में भल्लाल देव की पत्नी का जिक्र दूर-दूर तक नहीं है.

Source: intoday

'बाहुबली-1' में असलम खान नाम का एक किरदार दिखाया गया था, जो कटप्पा का दोस्त बनता है और वादा करता है कि जब भी कटप्पा को ज़रूरत होगी वो लौट कर आएगा. लेकिन 'बाहुबली-2' में उसका भी कोई ज़िक्र नहीं किया गया.

Source: quoracdn

'बाहुबली-2' के आख़िरी सीन में जब भल्लाल देव की सोने की 125 फ़ीट ऊंची प्रतिमा टुकड़ों में टूट जाती है, लेकिन अगर असलियत में सोने को तोड़ा जाएगा तो वो टूटेगा नहीं, बल्कि मुड़ जाएगा. मगर ये प्रतिमा तो सीमेंट की मूर्ती की तरह टूट रही थी.

Source: indianexpress

'बाहुबली-2' में ही भल्लालदेव की गदा में चेन भी थी, जिसकी मदद से वो गदा के ऊपरी हिस्से से दूर तक वार कर सकते थे, लेकिन सोचने वाली बात ये है कि इतनी लम्बी चेन उसकी गदा में लॉक कैसे होती होगी.

Source: media-cache-ak0

'बाहुबली-2' में जब बाहुबली और कटप्पा देशाटन के दौरान एक गांव के किनारे बह रही नदी के पास से गुज़र रहे होते हैं, तो उनको तब तक कोई बॉडी नहीं दिखती हैं, जब तक बाहुबली उसमें अपना मुंह नहीं धोते हैं, जबकि उस नदी में सैंकड़ों डेड बॉडीज़ पड़ी हुई थीं.

Source: bookticketnow

'बाहुबली 2' के इस पोस्टर में भी ग़लती है. अगर आप इसे ध्यान से देख्नेगे, तो आपको समझ आएगा कि देवसेना का धनुष, बाहुबली के तीरों के पीछे नज़र आ रहा है. जबकि यह मुमकिन ही नहीं है, क्योंकि वो बाहुबली के आगे खड़ी हैं. देवसेना के तीर भी एक जैसे नहीं हैं, जबकि बाहुबली के तीनों तीर एक से दिखाई दे रहे हैं.

अगर आपने ये दोनों फ़िल्में देखी हैं, तो आपको तुरंत ये गलतियां समझ आ जायेंगी और अगर नहीं देखी है, तो जब भी देखें तब इन सीन्स पर ध्यान दें. आप भी पकड़ लेंगे ये सारी मिस्टेक्स.

Source: quora