स्कूल की किताबों की कुछ ख़ूबसूरत कहानियों में एक कहानी थी 'काबुलीवाला'. रबिन्द्रनाथ टैगोर की लिखी इस शॉर्ट स्टोरी को शायद ही कोई बच्चा भूल पाया हो. किशमिश बादाम बेचते काबुलीवाले और मिनी के रिश्ते में शायद हमने भी अपने लिए एक जगह तलाश ली थी. 'काबुलीवाले, ओ काबुलीवाले' कहते हुए अपनी खिड़कियों से चिल्लाया करते थे.

आज काबुलीवाले की याद फिर ताज़ा हो गई. देब मधेकर की फ़िल्म 'Bioscopewala' का ट्रेलर रिलीज़ हुआ है. ये फ़िल्म रबिन्द्रनाथ टैगोर की 'काबुलीवाले' को एक ट्रिब्यूट है. फ़िल्म वहां से शुरू होती है, जहां से 'काबुलीवाला' ख़त्म हुई थी. फ़िल्म में काबुलीवाला बने डैनी डेनज़ोंग्पा ने बचपन से मन में बसी उस छवि को जीवंत कर दिया है. उन्हें देखते ही बचपन की वो याद बोल उठती है कि ये तो काबुलीवाला है. बस फ़र्क इतना है कि वो मिनी को बादाम-किशमिश देने की जगह बॉयोस्कोप में कहानियां दिखाता है.

Bioscopewala की कहानी में मिनी बनी गीतांजलि थापा के पिता की प्लेन क्रेश में मृत्यु हो जाती है. अपने पिता की मृत्यु की गुत्थी सुलझाने में मिनी की मदद एक ही आदमी कर सकता है, Bioscopewala. कहानी थोड़ी सी अलग ज़रूर हुई है लेकिन इसका ट्रेलर देखने भर से वो याद ताज़ा हो जाएगी.

फ़िल्म में डैनी के साथ गीतांजलि थापा, टिस्का चोपड़ा, सुनील दोशी, बृजेन्द्र काला मुख्य भूमिकाओं में हैं.

ये रहा ट्रेलर:

Bioscopewala 25 मई को रिलीज़ हो रही है.