आनन्द बख़्शी साहब को कौन नहीं जानता होगा. ये एसे गीतकार हैं जिन्होंने बॉलीवुड फ़िल्मों को एक से बढ़ कर एक गाने दिए हैं. इनकी कलम से निकला हर गीत लोगों की जुबां पर रहता है. ये कहना ग़लत नहीं होगा कि बड़ी-बड़ी फ़िल्मों जिनमें आनंद बख़्शी साहब के गाने हैं, वो बिना इन गानों के शायद ही इतनी बड़ी हिट होती. अब चाहे दिल तो पागल है के गाने ले लीजिये या दिल वाले दुल्हनिया ले जाएंगे का 'हो गया है तुझको तो प्यार सजाना... गाना ले लीजिये या फिर पुरानी फ़िल्मों के गाने. बख़्शी जी अपने गानों में शब्दों का चयन बड़ी बारीकी से किया करते थे.

Source: amarujala

प्यार के इज़हार का गीत हो या कोई दर्द भरा नगमा, हर गाना सुनकर ऐसा लगता है मानों हमारे लिए ही लिखा गया हो. उनके दर्द भरे गीत, तो हर बार ही आंखों में आंसू ले आते हैं. सिर्फ़ प्यार और दर्द ही नहीं, वो दोस्ती और भक्ति पर भी गाने लिखते थे.

इस महान गीतकार का जन्म 21 जुलाई 1930, पाकिस्तान के रावलपिंडी में हुआ था. बख़्शी साहब कभी गीतकार नहीं बनना चाहते थे, बल्कि वो गायक बनना चाहते थे. पर अपने दिल की बात वो परिवार के सामने रख नहीं पाए और 14 साल की उम्र में घर से भाग कर मुंबई आ गए. लेकिन मायानगरी ने उनके लिए कुछ और ही तय कर रखा था. कई कोशिशों के बाद भी उनको सफ़लता नहीं मिली. लेकिन उन्होंने कभी हार नहीं मानी, वो लगातार कोशिश करते रहे. आखिरकार साल 1965 में आई फ़िल्म ‘जब जब फूल खिले’ में उनके द्वारा लिखे गाने फ़ेमस हो गए और पूरे बॉलीवुड में उनका नाम लोगों के सिर चढ़कर बोलने लगा.

उसके बाद शुरू हुआ उनकी कामयाबी का सफ़र और उनके एक से बढ़ कर एक गीत हिट होते गए, जिनको आज भी लोग सुनना पसंद करते हैं. आनंद बख़्शी जी ने बॉलीवुड में 4 दशकों के अपने करियर में 500 से भी ज़्यादा फ़िल्मों के लिए गाने लिखे जिनकी संख्या लगभग चार हज़ार है.

आज आनंद बख़्शी साब की जंयती है. तो हमने सोचा क्यों न आपको उनके लिखे कुछ बेहद उम्दा गीतों से रू-ब-रू करवाया जाए:

1. एक अजनबी हसीना से यूं मुलाक़ात हो गई...

2. आते-जाते ख़ूबसूरत आवारा सड़कों पे...

3. मैं शायर तो नहीं...

4. जाने क्यूं लोग मोहब्बत किया करते हैं...

5. सबको हो रही है ख़बर चुपके-चुपके...

6. बोलो सुबह-शाम हरे कृष्णा हरे राम...

7. भूल कोई न हमसे हो जाए...

8. हो गया है तुझको तो प्यार सजना, लाख कर ले तू इंकार सजना...

9. अबके सजन सावन में, आग लगेगी बदन में...

10. इस दिल की बातों में जो आते हैं, वो भी दीवाने हो जाते हैं...

11. पहले मैं समझा कुछ और वजह इन बातों की...

12. आज मौसम बड़ा बेईमान है, बड़ा बेईमान है आज मौसम...

13. गली में आज चांद निकला...

14. टिप-टिप बरसा पानी...

15. गुलाबी आंखें जो तेरी देखीं, शराबी ये दिल हो गया...

16. परदेसियों को है एक दिन जाना, परदेसियों से न अंखियां मिलाना...

17. अंखियों को रहने दे अंखियों के आस-पास, दूर से दिल की बुझती रहे प्यास...

इस महान गीतकार के गीतों की संख्या तो बहुत ज़्यादा है, उनमें से हमने चुने हैं ये गीत, आपको कैसे लगे, बताइयेगा?

Designed By: Nupur Agrawal