सभी इंसानों के शरीर में कोई न कोई कमी ज़रूर रहती है. कुछ में कम रहती है तो कुछ में ज़्यादा. मिलिए एक ऐसे बच्चे से जिसका दिमाग सिर में नहीं बल्कि उसके नाक में है. अंग्रेज़ी अख़बार डेली मेल की एक रिपोर्ट के अनुसार, इंग्लैंड के वेल्‍स में रहने वाली 22 साल की ऐमी पूल के बेटे की नाक अजीबो-गरीब ढंग से बढ़ती ही जा रही है. ऐमी के बच्चे का नाम ऑली ट्रेसाइज है. ऑली फ़िलहाल 21 महीने का हुआ है और एनसेपफैलोसेल नाम की मेडिकल कंडिशन से पीड़ित है.

इस बीमारी में दिमाग खोपड़ी के अंदर किसी सुराख को ढूंढता है और वहां से बढ़ता है. ऑली ट्रेसाइज़, मेडिकल साइंस के लिए एक चुनौती बने हुए हैं. डॉक्टर्स की टीम दिन-रात उनकी बीमारी को ठीक करने में लगे हुए हैं. आइए जानते हैं ऑली और उनकी मां ऐमी को किन-किन परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है.

1. ऑली सिर से लेकर नाक तक की कई सर्जरियां झेल चुका है. डॉक्टरों के मुताबिक ऑली का दिमाग सिर में विकसित होकर उसकी नाक में बढ़ रहा है.

2. ऐसा उसके साथ तभी से है जब से वो अपनी मां के गर्भ में था.

3. ऑली को जन्म देने के वक्त अल्ट्रासांउड के दौरान ही डॉक्टरों को बच्चे की नाक पर कुछ एक्सट्रा टिशू के बढ़ने का अनुमान था.

4. जांच में पता चला कि ऑली एनसेपफैलोसेल नाम की मेडिकल कंडिशन से पीड़ित है.

5. इस बीमारी में दिमाग खोपड़ी के अंदर किसी सुराख को ढूंढता है और वहां से बढ़ता है.

6. इसकी वजह से ऑली को 21 महीने तक सांस लेने में दिक्कत आ रही थी.

7. ऐनी कहती हैं कि उनके बच्चे का लोग ख़ूब मज़ाक उड़ाते हैं.

8. एक ने यह तक कह दिया था कि इसे तो पैदा ही नहीं होना चाहिए था.

शारीरीक विकलांगता पर किसी का जोर नहीं होता, लेकिन मानसिक विकलांगता पर तो होता है. इस समय ऐनी और ऑली पर दुखों का पहाड़ छाया हुआ है, ऐसे में लोगों को सपोर्ट करना चाहिए. ऐनी एक मां हैं, उनके लिए उनका बेटा परफैक्ट है. दुनियां की सभी माताओं के लिए लिए उसका बच्चा बेस्ट होता है. हमारी यही दुआ है कि ऑली जल्द ही स्वस्थ हों और उनकी आने वाली ज़िंदगी उज्जवल हो.

Story & Image Source: dailymail