प्यार से ही दुनिया चल रही है. नफ़रत कितनी भी जगह क्यों न बना ले, अगर प्यार है तो हर मर्ज़ की दवा मिल जाती है, सारी परेशानियों का हल मिल जाता है.

लेकिन कई बार कुछ लोग ग़लत इंसान से मोहब्बत कर लेते हैं. इतनी गहरी मोहब्बत कि उनके लिए सही-ग़लत के सारे पैमाने ख़त्म हो जाते हैं. मोहब्बत में इंसान ऊपर उठे तो अच्छा है, अगर वो गिरने लगे तो उस रिश्ते को ख़त्म करने में ही भलाई है.

प्यार के आगे सब झूठ दिखाई देता है और आगे चलकर ऐसे ही रिश्ते Abusive Relation में बदल जाते हैं. प्यार है ठीक है पर किसी को ख़ुद पर हावी होने की इजाज़त कभी नहीं देनी चाहिए. प्यार एक ख़ूबसूरत एहसास है, लेकिन एक ख़राब Relationship को प्यार नहीं कह सकते.

Humans of Bombay, Facebook Page पर एक महिला ने ग़लत व्यक्ति के प्यार में अंधे होने, उसका खामियाज़ा भुगतने और उस रिश्ते से आज़ाद होकर ज़िन्दगी की नई शुरुआत करने की कहानी शेयर की.

'मुझे उससे पहली नज़र में ही प्यार हो गया था. वो मेरा 'Dream Guy' था. मैंने अपने Relationship के बारे में तुरंत अपने Parents को बता दिया क्योंकि मैं उससे शादी करने के लिए बेक़रार थी. वो Ship पर काम करता था, तो हम एक-दूसरे से काफ़ी कम मिलते थे. लेकिन फिर भी हम रोज़ बात करते थे. एक दिन मैं उसे Message कर रही थी और किसी ने मुझे Message करके पूछा कि मैं उसके Boyfriend को Message क्यों कर रही हूं? मुझे पता चला कि वो एक साथ दो लड़कियों को धोखा दे रहा था. पर मैं प्यार में अंधी हो चुकी थी. उसने मुझसे माफ़ी मांगी और मैं उससे शादी करने के लिए राज़ी हो गई.

शादी से कुछ देर पहले मेरे पापा ने मुझसे कहा, 'काश तुम अभी यहां से भाग जाती, अभी के अभी!'

मैंने उनकी बात नहीं सुनी. 'मैं अपने प्यार के लिए लड़ना चाहती थी!'

बीतते वक़्त के साथ वो Abusive होने लगा. मेरे In-Laws ने भी इस बात को नज़रअंदाज़ किया. नर्क थी वो ज़िन्दगी. बाहर के लोगों के लिए हम Perfect Couple थे, असलियत कुछ और ही थी. वो शादी के बाद भी मुझे धोखा देता रहा, लेकिन मैं उसे छोड़ नहीं सकती थी.

अगर कोई बार-बार आपसे बुरा बर्ताव करने लगे, तो आप भी यही सोचने लगते हैं कि आप वही Deserve करते हो. उसकी इतनी हिम्मत थी कि उसने मेरे पापा के सामने मुझ पर हाथ उठाया. मैंने उस दिन पापा को टूटते देखा, लेकिन मैंने उस आदमी को नहीं छोड़ा.

सब कुछ बदल गया, जब मेरे पापा की मौत हुई. वो आख़िर तक मुझे उसे रिश्ते से आज़ाद करवाना चाहते थे. पापा को खोने के दुख के दौरान मेरी आंखे खुली. मैं उस आदमी के साथ कोई रिश्ता नहीं रखना चाहती थी.

आज मुझे बस यही Regret है कि मेरे पापा ने इस डर के साथ दुनिया को अलविदा कहा कि उनके बाद उनकी बेटी को कहीं कुछ हो न जाये. उन्होंने मुझे एक Strong, Confident व्यक्ति की तरह बड़ा किया और मैंने अपनी आज़ादी की डोर एक ग़लत आदमी के हाथों में दे दी.

मुझे अपनी ज़िन्दगी की डोर दोबारा थामनी थी.

मैं उसके घर से निकल गई, Home Loan लेकर घर खरीदा. एक वक़्त था जब मेरे सपने बहुत बड़े थे. अब मुझे अपना पूरा Focus अपने करियर पर देना था. मुझे Equities में नौकरी मिली और मैं कड़ी मेहनत करने लगी. मेहनत रंग लाई और 20 साल के लोन को मैंने 2 साल में भर दिया.

अब मैं अपनी मां और अपना ख़्याल रखती हूं.

मुझे आख़िरकार आज़ादी मिली, Emotionally, Financially Independent हो गई. मुझे अपने आप से प्यार है. मैं हर साल एक नए देश में अकेले घूमने जाती हूं और अपने साथ कई सारी नई यादें बनाती हूं.

इस बुरे अनुभव ने मेरे सपने को नहीं बदला है, मैं आज भी परियों की कहानी में विश्वास रखती हूं और सपनों के राजकुमार में भी. लेकिन इस बार ये तभी होगा, जब मैं ख़ुद में Complete हो जाऊं. इस बार ये इसलिये होगा क्योंकि मुझे किसी से प्यार है, इसलिये नहीं कि मुझे किसी के साथ होना है. मुझे ख़ुद पर गर्व है और मेरी Wish है कि मेरे पापा जहां भी हों, उन्हें भी मुझ पर गर्व हो. मैं बस उनसे इतना कहना चाहती हूं, 'मैं वो Hero बन चुकी हूं, जिसे मैं सारी उम्र ढूंढ रही थी और पापा ये आपकी वजह से हुआ.'

प्रेम में पड़कर इस महिला को कभी न मिटने वाला दर्द मिला. पर वो हारी नहीं, गिरी और गिरकर उठी. आप भी सबक लें, अगर ऐसी किसी Situation में हैं, तो तुरंत उससे ख़ुद को आज़ाद करिये. ज़िन्दगी बहुत ख़ूबसूरत है, किसी पर भी इसे ज़ाया न करें.