सिखों की वीरता और दिलेरी के क़िस्से हम सुनते आए हैं. चाहे वो सारागढ़ी का युद्ध हो जब 21 सिख सिपाहियों ने 10 हज़ार अफ़गानों का सामना किया. चाहे वो सारागढ़ी का युद्ध हो या फिर विश्व युद्ध में अंग्रेज़ सेना की तरफ़ से कमान संभालने की बात हो.

आज भी दुनिया के किसी भी कोने में आपदा आए, सिख वहां मदद करने ज़रूर पहुंचते हैं.

Source: Birmingham Mail

प्रथम विश्व युद्ध में भी सिख सिपाहियों ने अपनी वीरता दिखाई थी.

उन सिपाहियों की बहादुरी को याद करते हुए Birmingham के निकट Smethwick में एक प्रतिमा लगाई गई है.

Source: BBC

प्रतिमा के अनावरण से पहले परेड का आयोजन भी किया गया.

'Lions of The Great War' की प्रतिमा को Smethwick में गुरु नानक गुरुद्वारे के बाहर लगाया गया है.

Source: BBC

इस समारोह में हज़ारों सिखों और अंग्रेज़ों ने हिस्सा लिया.

Source: BBC