सोफ़ा, कार सीट और योगा मैट ये हर शख़्स की ज़िंदगी की मूलभूत आव्शयकताएं हैं, लेकिन वैज्ञानिकों के हालिया शोध में इन चीज़ों को लेकर एक चौंका देने वाली बात सामने आई है.

दरअसल, रिसर्च के मुताबिक, सोफ़ा, कार, और योगा मैट के इस्तेमाल से महिलाओं को गर्भधारण करने में दिक्कत पैदा हो सकती है. In Vitro Fertilization (IVF) की स्टेज से गुज़र रही महिलाओं पर किए गए इस अध्यन में पाया गया कि जो महिलाएं सोफ़ा, कार सीट और योगा मैट का अधिक इस्तेमाल करती हैं, उनके गर्भधारण करने की संभावना एक तिहाई कम हो जाती है.

शोध के मुताबकि, फ़ोम भरने के लिए जिन Flame Retardants का इस्तेमाल किया जाता है, उनसे निकलने वाले धूल के कण महिलाओं के शरीर के महत्वपूर्ण हार्मोन के लिए काफ़ी नुकसानदायक हैं. हावर्ड के T.H. Chan School of Public Health ने महिलाओं के यूरीन का परीक्षण कर, 211 महिलाओं को उपचार और कपल को Flame Retardants से बने उत्पादकों का प्रयोग न करने की सलाह दी है. वहीं इससे पहले वाले अध्यन में पाया गया था कि सोफ़ा, कार सीट और मैट से निकलने वाली हानिकारक धूल स्पर्म के तैरने की गति को धीमी कर देती है.

Dr. Courtney Carignan बताती हैं, 'महिलाओं पर किए गए इस अध्यन से पता चलता है कि Organophosphate Flame Retardants (PFRs) सेक्स के दौरान गर्भधारण में एक बाधा साबित हो सकता है.' करीब 31 प्रतिशत महिलाएं सोफ़ा, कार सीट और योगा मैट से निकलने वाली ख़तरनाक डस्ट के कारण गर्भधारण नहीं सकती.'
वहीं Edinburgh में स्थित Clinical Reproductive Science University के प्रोफ़ेसर Richard Anderson का कहना है, 'हालांकि, इसका अभी कोई ठोस सबूत नहीं पाया गया है कि कम सफ़लता दर का कारण PFRs है. आगे की शोध में ही इसका साफ़ कारण पता चल पाएगा.'

ब्रिटेन में बनने वाले Sofa, कारों के अंदर भरे जाने वाले फ़ोम में Flame Retardants का सबसे ज़्यादा इस्तेमाल किया जाता है. वहीं अमेरिका में ज़्यादातर जिम में योगा मैट को बनाने के लिए Organophosphate Flame Retardants का इस्तेमाल किया जाता है.

Source : dailymail