हम इंसानों ने प्रकृति और जानवरों का जीना मुहाल कर रखा है. प्रकृति संरक्षण दिवस मनाने और जानवरों के लिए मार्मिक पोस्ट डालना हम नहीं भूलते. ये सब कर के हम ये समझ लेते हैं कि हमारा काम ख़त्म हो गया.

हाल ही में फ़ेसबुक पर एक NGO द्वारा Upload किए गए वीडियो से सारी सच्चाई सामने आ गई. Gujarat Forest नामक फ़ेसबुक पेज पर Upload किए गए इस वीडियो में कुछ लोग गाड़ी से एक शेर के बच्चे को खदेड़ते नज़र आ रहे हैं.

Source: India Today

वीडियो में कार में बैठे लोग गुजराती में बातें कर रहे हैं और एक शेर के बच्चे को दौड़ा रहे हैं. कार की तेज़ गति के कारण शेर का बच्चा भी तेज़ भागने पर मजबूर हो गया, वीडियो का विश्लेषण करते हुए एक अधिकारी ने बताया.

Wildlife Protection Act के अनुसार, किसी भी वन्य जीव को दौड़ाना या परेशान करना ग़ैरकानूनी है. गुजरात के Asiatic Lions, की संख्या पूरे विश्व में कम है. ऐसे में अपने मज़े के लिए अबला जीव को इस तरह सताना अमानवीय है.

लेकिन दुख इस बात का है कि ये गुनहगार शायद ही पकड़े जाएं.

Source: Scoop Whoop