ख़बरों की मानें, तो केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE ) दसवीं कक्षा के बच्चों को जल्द ही अब योगा करने और देशभक्ति दिखाने के भी नंबर देगा. हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, सीबीएसई देशभक्ति की भावना पैदा करने के लिए दसवीं कक्षा के विद्यार्थियों को योगा, मार्शल आर्ट्स, एनसीसी और देसी खेलों में दक्षता के आधार पर वर्गीकृत कर ग्रेड देगा.

31 जनवरी को CBSE ने एक अधिसूचना जारी करते हुए कहा कि अगले शैक्षणिक वर्ष से दसवीं कक्षा के छात्रों को योग सहित अन्य शैक्षणिक गतिविधियों मसलन, मार्शल आर्ट्स, एनसीसी और खेलों आदि के लिए फाइव प्वाइंट ग्रेडिंग सिस्टम में A से लेकर E तक ग्रेड दिये जाएंगे.

Source: Reuters

स्टूडेंट्स अपनी स्वेच्छा से हेल्थ और फिजिकल एजुकेशन कैटेगरी में से कोई भी चुन सकते हैं. विद्यार्थियों को ये नंबर इसी के आधार पर दिये जाएंगे.

इसके अलावा, CBSE की ओर से दिये गये ये ग्रेड स्टूडेंट्स की मार्क शीट में भी दिखाई देंगे. हालांकि, पूरे रिजल्ट पर इसका कोई भी असर नहीं पड़ेगा.

CBSE की अधिसूचना के मुताबिक, स्कूलों में फिजिकल फिटनेस, अनुशासन, स्पोर्ट्समैनशिप, देशभक्ति, हेल्थ केयर और आत्म बलिदान के लिए खेल, योगा और एनसीसी को प्रोत्साहित करना चाहिए. इस सिस्टम में विद्यार्थियों को नंबर अथवा ग्रेड उनके फिजिकल एजुकेशन टीचर के द्वारा दिये जाएंगे.
Source: india.com
मई 2016 में, शिक्षा बोर्ड ने स्कूलों में सतत और व्यापक मूल्यांकन अथवा Continuous and Comprehensive Evaluation (CCE) के लिए योगा को शामिल करने का निर्देश दिया था. इसके अलावा सीबीएसई ने आयुष मंत्रालय के साथ भारतीय गुणवत्ता परिषद द्वारा संचालित शिक्षकों के लिए सर्टिफिकेशन कोर्स में हर स्कूल से एक टीचर भेजने को कहा था.

गौरतलब है कि CBSE के अंतर्गत अभी कुल 18 हज़ार स्कूल्स आते हैं. अभी बोर्ड परीक्षा में 80 फ़ीसदी अंक बोर्ड परीक्षा के होते हैं, जबकि 20 फ़ीसदी स्कूल की तरफ से दिए जाते हैं.

News source: thewire