हिंदी हमारे देश की मात्र एक भाषा नहीं, मातृभाषा है. हमारे मुंह से पहला शब्द हिंदी में ही निकलता है, सबसे ज़्यादा आनंद हम हिंदी में बात करने पर मिलता है. लेकिन अंग्रेज़ी के प्रचलन से, हिंदी का चार्म कम होता जा रहा है. कुछ लोगों को हिंदी में बात करने में शर्म महसूस होती है, उन्हें लगता है कि हिंदी में बात करने पर वो कूल नहीं लगेंगे.

Image Source : therootsshop

वहीं हमारी मातृभाषा हिंदी को लेकर एक अच्छी ख़बर सामने आई है. हिंदी का दायरा धीरे-धीरे बढ़ता जा रहा है. यही वजह है कि हिंदी के कई शब्दों को 'ऑक्सफ़ोर्ड इंग्लिश डिक्शनरी’ में शामिल किया गया है. हाल ही में 'ऑक्सफ़ोर्ड इंग्लिश डिक्शनरी’ में शामिल किए गए 600 नए शब्दों को सार्वजनिक किया गया है, जिनमें 'चना' और 'चना दाल' भी शामिल है. हम हिंदुस्तानियों के लिए, इससे बड़ी गर्व की बात और क्या हो सकती है.

Image Source : indiatimes

दरअसल, हर 3 महीने के अंतराल में डिक्शनरी में जीवनशैली और समसामयिक विषयों से लेकर शिक्षा जगत तक के नए-नए, प्रचलित शब्दों को शामिल किया जाता है.

Source : timesofindia