दिल्ली से एक बार फिर इंसानियत को शर्मसार करने वाला मामला सामने आया है, जिसमें अनजाने में हुई एक गलती की एक नाबालिग लड़की को मिली दर्दनाक सज़ा.

छतीसगढ़ से गलत ट्रेन पकड़ने वाली 15 वर्षीय एक लड़की दिल्ली पहुंच गई और देश की राजधानी में उसके साथ हुई एक शर्मनाक घटना. यहां एक नाबालिग लड़की को हवस का शिकार बनाया गया है. इस 15 साल की लड़की के साथ यहां न सिर्फ़ रेप हुआ, बल्कि उसके जिस्म का सौदा भी किया गया.

Source: Representational Image

दरअसल, जब ये लड़की गलती से दिल्ली पहुंची तो उसको स्टेशन से किडनैप कर लिया गया था उसके बाद ही उसके साथ इस दरिंदगी को अंजाम दिया गया. उसके साथ बलात्कार किया गया और फिर एक महिला की मदद से एक व्यक्ति के हाथों बेच दिया गया. गौरतलब है कि हुमायूं का मकबरा के पास स्थित इलाके से बीते शुक्रवार (3 फरवरी) इस लड़की को दिल्ली महिला आयोग ने आजाद कराया. पुलिस ने इस मामले में दो लोगों को गिरफ़्तार भी किया है.

आपको बता दें कि अक्टूबर में अपने रिश्तेदार के यहां जाने के लिए ये लड़की छत्तीसगढ़ से एक ट्रेन में यात्रा कर रही थी, लेकिन वो एक गलत ट्रेन में चढ़ गई थी और दिल्ली पहुंच गई.

Source: Representational Image

पुलिस के अनुसार, रेलवे स्टेशन पर उसकी मुलाक़ात एक आदमी से हुई, जिसका नाम अरमान था और वो स्टेशन पर पानी की बोतलें बेचने का काम करता है. वो व्यक्ति नाबालिग को बहला-फुसला कर अपने साथ सराय काले खां ले गया और अपनी पत्नी हसीना की मदद से उसके साथ बलात्कार किया. वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि बलात्कार के बाद में उन दोनों ने 70,000 रुपये में पप्पू यादव नाम के एक व्यक्ति के साथ लड़की का सौदा कर लिया, ताकि वो एक नाबालिग से शादी कर ले.

इसके साथ ही पुलिस अधिकारी ने बताया कि ये नाबालिग लड़की तकरीबन पिछले दो महीनों से फ़रीदाबाद में पप्पू यादव के साथ रह रही थी, जो मानसिक और शारीरिक तौर पर उसका शोषण कर रहा था. किसी तरह वो उसकी गिरफ्त से निकल कर सीधे हज़रत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन पहुंची, जहां हसीना उससे मिली और हसीना ने उसको नशीली दावा मिला हुआ ड्रिंक पिला दिया. जब वो बेहोश हो गई, तब हसीना ने उसे 22 वर्षीय मोहम्मद अफरोज़ को सौंप दिया.

अफरोज़ ने रेलवे स्टेशन के पास ही उसका रेप किया और उसकी कीमत हसीना को दे दी. किसी तरह पीड़ित वहां से भाग निकलने में कामयाब हो गई और एक राहगीर ने उसको बुरी हालत में देखकर पीसीआर को कॉल किया.

उसके बाद उसको बचा लिया गया और आरोपियों के खिलाफ़ आईपीसी के सेक्शन 363, 366, 376, 328, 506 और POCSO Act के तहत सनलाइट कॉलोनी पुलिस स्टेशन में केस दर्ज किया गया. फिलहाल, नाबालिग लड़की का AIIMS हॉस्पिटल में मेडिकल एग्जामिनेशन किया गया और उसके बाद उसकी काउंसिलिंग भी की गई.

आपको बता दें कि सराय काले खां और फ़रीदाबाद में हुई कई पुलिस रेड्स के बाद मोहम्मद अफरोज़ और पप्पू यादव को गिरफ़्तार कर लिया गया है. पुलिस मिली सभी जानकारियों के आधार पर इन आरोपियों पर बाल विवाह अधिनियम 2006 एक्ट के तहत भी धारा लगाने का विचार कर रही है.

Feature Image Source: dnaindia

Source: hindustantimes