अगर हमारे हाथ या पैर पर थोड़ा सा भी तेज़ गर्म पानी गिरता है, तो हम एक दम से ही चिल्ला पड़ते हैं और जलन से परेशान हो जाते हैं. मगर ये ख़बर पढ़ने के बाद आप हैरान हो जायेंगे और आपको गुस्सा भी आएगा कि कैसे कोई 14 साल के मासूम बच्चे के शरीर पर खौलता हुआ पानी डाल सकता है.

जी हां, ये ख़बर सच है और ये दक्षिणी म्यांमार के Mawlamyine की है. इससे पहले कि हम आपको बताएं कि पूरा मामला क्या था, उसे पहले आप एक फ़ोटो देखिये. हो सकता है इसे देखकर आप विचलित हो जायें.

ये फ़ोटो दक्षिणी म्यांमार के Mawlamyine में काम करने वाली 14 साल के मासूम बच्ची Khin Khin Tun की है. Khin Khin Tun के ऊपर उसके मालिक Aye Aye Soe ने खौलता हुआ पानी डाल दिया. इसे हैवानियत की हद ही कहा जाएगा कि गर्म पानी डालने से पहले उसने इस मासूम को इतना मारा कि उसकी बॉडी से खून निकलने लगा और उसके बाद तेज़ गर्म पानी डाल कर वहीं छोड़ दिया.

Khin Khin ने बताया, उसके मालिक Aye Aye ने एक फ्लास्क में भरे हुए गर्म पानी को मेरे शरीर के दाहिने हिस्से पर पलट दिया. उसने ऐसा इसलिए किया क्योंकि जब उसने मुझसे पूछा कि तुम्हारे पास संतरे हैं, तो मैंने जवाब दिया कि मेरे पास कोई संतरा नहीं है और इसके बाद उसने मुझे खूब मारा और मेरे ऊपर खौलता हुआ पानी डाल दिया. जब मैं चिल्लाने लगी की मुझे दर्द हो रहा है, तो वो मेरे सिर पर मारने लगी, जिस कारण वहां खून ही खून हो गया.

गौरतलब है कि परिवार की आर्थिक स्थिति अच्छी न होने के कारण और तंगी के चलते Khin Khin के पिता ने उसको 40 वर्षीय Aye Aye Soe, जो कि एक विधवा है और उसकी मां Tin Pyone, के पास काम करने के लिए भेजा था. उसके पिता को अपनी दवाइयों पेमेंट करने के लिए रुपयों की ज़रूरत थी और अपनी बेटी Khin Khin के 17 घंटे के काम के बदले उसको 30,000 kyat (£17) यानि कि करीब 1500 रुपये मिले थे. लेकिन जब 2015 में Khin Khin के पिता गुज़र गए, तो Aye Aye ने पैसे देने से इनकार कर दिया, लेकिन उससे ज़बरजस्ती अपने घर में गुलामों की तरह काम करवाती रही.

इस मासूम पर हुए इस अत्याचार को Hla Shwe ने अपनी आंखों से देखा. Hla Shwe उसी कैटरिंग कंपनी में काम करती है, जिसकी मालिक Aye Aye है. Hla Shwe कहती है, 'मैंने केवल यही होते हुआ देखा था, मैं क्या कर सकती थी, मैं कुछ बोल भी नहीं पायी.'

वहीं पीड़ित का कहना है कि ये पहली बार या आख़िरी बार नहीं हुआ था, बल्कि वो अकसर इस तरह की प्रताड़ना का शिकार होती थी.

इसके बाद Khin Khin ने बताया कि उसकी मालकिन ने उसके साथ-साथ उसकी 12 वर्षीय छोटी बहन Thazin Aung को भी उसके पिता से खरीद लिया था, जिसने बाद में काम शुरू किया. वो बताती है कि उससे कहा गया था कि अगर उसने खाना चुराने की बात नहीं कबूली तो उसको ज़िंदा जला दिया जाएगा.

Khin Khin कहती है, Aye Aye ने हम दोनों बहनों को एक-दूसरे को मारने सुर एक-दूसरे के घावों पर मिर्च और विनेगर लगा कर मसलने के लिए भी विवश किया था.

आपको बता दें कि Khin Khin और उसकी बहन Thazin Aung को एक लोकल NGO ने बचाया और उनको हॉस्पिटल में एडमिट भी कराया. Aye Aye Soe पर गंभीर शारीरिक नुकसान और जान-बूझ कर चोट पहुंचाने का आरोप लगाया गया है. हालांकि बीते सोमवार को कोर्ट में पेशी के बाद Aye Aye को ज़मानत पर छोड़ दिया गया.

ये दोनों बहने उन हज़ारों बच्चों में से ही हैं, जो अपने परिवार के लिए घर-घर काम करके पैसे कमाते हैं. मासूम बेसहारा बच्चों की ऐसी स्थिति किसी एक देश में नहीं, बल्कि दुनिया के अधिकतर देशों में है. लेकिन इसके लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाया जाता है. बाल मजदूरी के लिए हर देश के अपने अलग क़ानून हैं, पर फिर भी ऐसे बच्चों के हालातों में कोई सुधार देखने को नहीं मिलता.

Source: metro