चीन एक Communist देश है और वहां किसी भी धर्म को Communism से बड़ा नहीं माना जाता. ऐसे में किसी भी धर्म के सम्मान से बड़ा सरकार का एजेंडा होता है. लेकिन वहां के एक ऑफ़िसर ने ऐसा नहीं किया और उसे अपने पद से हाथ धोना पड़ा.

चीन के बड़े सरकारी औहदे पर नियुक्त ऑफ़िसर, Jelil Matniyaz को सिर्फ़ इसलिए पद घटा दिया, क्योंकि उसने एक मुस्लिम नेता के सामने सिगरेट के कश नहीं लगाए. जी हां! मामला चीन के मुस्लिम बहुसंख्यक इलाके, Xinjiang का है.

Source: news18

इन्हें Demote करने वाले नेता मानते हैं कि Jelil धर्म गुरुओं से डर गए थे और इसी डर के कारण उन्होंने वहां सिगरेट नहीं पी. साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि सिगरेट पीना या न पीना किसी शख़्स के मन पर निर्भर करता है, लेकिन धर्म या कट्टरपंथियों के डर के कारण किसी भी चीज़ को न करना चीन और Communism के खिलाफ़ है.

Source: tes

वहां के नेताओं का ये भी मानना है कि इस तरह के धर्म गुरुओं से उन्हें कई बार मुखातिब होना पड़ेगा. चीन की नीति किसी भी धर्म को बढ़ावा न देने की है और जो Jelil ने किया वो कट्टरपंथ के सामने झुकने जैसा है, जिसे चीन कभी नहीं स्वीकारेगा.

चीन किसी भी हालात में कट्टरपंथियों को देश में आने नहीं देना चाहता. इस तरह के फ़ैसले कड़े हैं, लेकिन ये उनकी संस्कृति है और ऐसे में ये फ़ैसला कितना गलत या सही है ये बोल पाना हमारे लिए गलत होगा.