देश के सबसे बुजुर्ग सैनिक की मौत हो गई. ये कोई आम सैनिक नहीं थे, बल्कि नेताजी सुभाषचंद्र बोस के सबसे ख़ास आदमी थे. उनका निधन 117 साल की उम्र में उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ में हो गया. वे लंबे वक्त से बीमार चल रहे थे. कर्नल निजामुद्दीन मुबारकपुर के ढकवा गांव के रहने वाले थे. निजामुद्दीन नेताजी के बेहद खास आदमी थे और उन्होंने उनके साथ कई देशों की यात्रा भी की थी.

Source: b'Source: Topyaps'

जानकारी के लिए बता दूं कि ये वही निजामुद्दीन हैं,  जिनके पैर छूकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बनारस में लोकसभा चुनाव लड़ते वक़्त आशीर्वाद लिया था.

Source: b'Source: Topyaps'

कर्नल निजामुद्दीन ने हिंद फौज का आईकार्ड हमेशा संभाल कर रखा. मोदी सरकार द्वारा नेताजी से जुड़ी फाइलें सार्वजनिक करने के बाद उनसे मिलने नेता जी की प्रपौत्री राज्यश्री चौधरी आईं थी.

Source: b'Source: Topyaps'

कर्नल निजामुद्दीन अकसर नेताजी से जुड़ी कहानियां लोगों को सुनाया करते थे. कर्नल निजामुद्दीन ने बताया था कि आजाद हिंद फौज के गठन के साथ नेताजी ने लोगों को रंगून में इकट्ठा करने को कहा था. 18 अगस्त 1945 को जिस समय नेताजी की मौत की ख़बर रेडियो पर चली, उस समय वह नेताजी के साथ ही बैठकर वर्मा के जंगल में सुन रहे थे.

कर्नल निजामुद्दीन को हमारी पूरी टीम की ओर से विनम्र श्रद्धांजली!