देश के सबसे बुजुर्ग सैनिक की मौत हो गई. ये कोई आम सैनिक नहीं थे, बल्कि नेताजी सुभाषचंद्र बोस के सबसे ख़ास आदमी थे. उनका निधन 117 साल की उम्र में उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ में हो गया. वे लंबे वक्त से बीमार चल रहे थे. कर्नल निजामुद्दीन मुबारकपुर के ढकवा गांव के रहने वाले थे. निजामुद्दीन नेताजी के बेहद खास आदमी थे और उन्होंने उनके साथ कई देशों की यात्रा भी की थी.

Source: Topyaps

जानकारी के लिए बता दूं कि ये वही निजामुद्दीन हैं, जिनके पैर छूकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बनारस में लोकसभा चुनाव लड़ते वक़्त आशीर्वाद लिया था.

Source: Topyaps

कर्नल निजामुद्दीन ने हिंद फौज का आईकार्ड हमेशा संभाल कर रखा. मोदी सरकार द्वारा नेताजी से जुड़ी फाइलें सार्वजनिक करने के बाद उनसे मिलने नेता जी की प्रपौत्री राज्यश्री चौधरी आईं थी.

Source: Topyaps

कर्नल निजामुद्दीन अकसर नेताजी से जुड़ी कहानियां लोगों को सुनाया करते थे. कर्नल निजामुद्दीन ने बताया था कि आजाद हिंद फौज के गठन के साथ नेताजी ने लोगों को रंगून में इकट्ठा करने को कहा था. 18 अगस्त 1945 को जिस समय नेताजी की मौत की ख़बर रेडियो पर चली, उस समय वह नेताजी के साथ ही बैठकर वर्मा के जंगल में सुन रहे थे.

कर्नल निजामुद्दीन को हमारी पूरी टीम की ओर से विनम्र श्रद्धांजली!

Source: Topyaps