हिन्दू धर्म की मान्यता के अनुसार भगवान विश्वकर्मा निर्माण और सृजन के देवता हैं. इन्हें सभी शिल्पकारों और रचनाकारों का ईष्टदेव कहा जाता है. कुछ लोग मानते हैं कि भगवान विश्वकर्मा ब्रह्मा जी के पुत्र हैं और उन्होंने ही ब्रह्माण्ड की रचना की थी.

Source: happywishes2016

क्या आपने कभी ये सोचा कि भगवान विश्वकर्मा को निर्माण का देवता क्यों कहा जाता है? या देवताओं के इस सबसे कुशल शिल्पी या आज की भाषा में इंजीनियर ने क्या-क्या बनाया था?

आज हम आपको बता रहे हैं ऐसी चीज़ें जिनका निर्माण पुराणों और लोक कथाओं के अनुसार भगवान विश्वकर्मा ने किया.

1. सोने की लंका

Source: blogspot

वाल्मीकि रामायण के अनुसार, सोने की लंका का निर्माण भगवान विश्वकर्मा ने किया था. ऐसा माना जाता है कि भगवान शिव ने पार्वती से विवाह के बाद, सोने की लंका का निर्माण, विश्वकर्मा जी से करवाया था. शिव जी ने महापंडित रावण को गृह पूजन के लिए बुलाया, तो रावण ने दक्षिणा में उनसे ये सोने का महल ही मांग लिया.

2. द्वारिका नगरी

Source: flickr

श्रीमद्भागवत के अनुसार भगवान कृष्ण ने द्वापर युग में भगवान विश्वकर्मा से द्वारिका नगरी का निर्माण करवाया था. द्वारिका नगरी की लम्बाई-चौड़ाई 48 कोस थी. उसमें वास्तु शास्त्र के अनुसार चौड़ी सड़कों, चौराहों और गलियों का निर्माण किया गया था.

3. शिव जी का रथ

Source: babamahakaal

महाभारत के अनुसार तारकाक्ष, कमलाक्ष और विद्युन्माली के वध के लिए भगवान शिव जिस रथ से गए थे, वो विश्वकर्मा ने ही बनाया था. सोने के उस रथ के दाएं चक्र में सूर्य और बाएं चक्र में चंद्रमा विराजमान थे.

4. गोपी तालाब

Source: blogspot

भगवान कृष्ण के प्रेम में पागल गोपियां, एक बार एक तालाब के किनारे उनका इंतज़ार कर रही थीं. कुछ दिन बाद जब कृष्ण वहां आये तो उन्होंने गोपियों का समर्पण देखकर उस तालाब का नाम गोपी तालाब रखने का प्रस्ताव दिया. लेकिन गोपियों ने उनसे इस पुराने तालाब की जगह नया तालाब बनवाने को कहा. तब कृष्ण के आदेश पर विश्वकर्मा जी ने एक ख़ूबसूरत तालाब का निर्माण किया, जिसे वर्तमान में 'गोपी तालाब' के नाम से जाना जाता है.

5. राजीव लोचन मंदिर

Source: apnachhatisgarh

एक मान्यता के अनुसार भगवान विष्णु ने एक बार विश्वकर्मा जी से धरती पर उनका ऐसी जगह मंदिर बनाने को कहा, जहां पांच कोस तक कोई शव न जलाया गया हो. भगवान विश्वकर्मा धरती पर आए तो उन्हें ऐसा कोई स्थान नहीं मिला. ये परेशानी बताने पर भगवान विष्णु ने अपना कमल का फूल धरती पर गिराया और विश्वकर्मा से कहा कि जहां ये फूल गिरे, वहीं मंदिर बना दो. वो फूल छत्तीसगढ़ के राजिम में गिरा जहां आज भगवान विष्णु का राजीव लोचन मंदिर है. ये मंदिर कमल के पराग पर बनाया गया है.

6. पश्चिमाभिमुख सूर्य मंदिर

Source: patrika

बिहार के औरंगाबाद के 'देव' में त्रेतायुग में बना पश्चिमाभिमुख सूर्य मंदिर अपनी विशिष्ट कलात्मकता के लिए प्रसिद्ध है. कहा जाता है कि इस मंदिर का निर्माण भगवान विश्वकर्मा ने एक रात में किया था. मंदिर में काले और भूरे रंग के पत्थरों की नायाब शिल्पकारी है. मंदिर पर लगे शिलालेख में ब्राह्मी लिपि में लिखित श्लोक की तिथि के अनुसार फ़िलहाल ये मंदिर 1 लाख 50 हज़ार 17 साल पुराना हो गया.

7. हस्तिनापुर

Source: youtube

माना जाता है कि प्राचीन काल की जितनी भी राजधानियां हैं, सब भगवान विश्कर्मा ने ही बनाई और बसाई थीं. कलियुग का हस्तिनापुर नगर भी भगवान विश्वकर्मा ने ही बनाया था.

8. भगवान विश्वकर्मा के पुत्र ने बनाया था रामसेतु

Source: agrwaltv

वाल्मीकि रामायण के अनुसार, भगवान राम के आदेश पर वानरों ने समुद्र पर पत्थर के पुल का निर्माण किया था. इन वानरों के मुखिया का नाम नल था, जो भगवान विश्वकर्मा के पुत्र थे. उन्होंने सभी शिल्प कलाएं अपने पिता से सीखी थीं.

इसके अलावा पुराने साहित्यों और पुराणों में जगह-जगह बहुत सी वस्तुओं और भवनों का वर्णन है, जिन्हें भगवान विश्वकर्मा द्वारा बनाया गया माना जाता है. इनमें सबसे प्रमुख इन्द्रपुरी, यमपुरी, वरुणपुरी, कुबेरपुरी, पाण्डवपुरी, सुदामापुरी, शिवमंडलपुरी, शिव का त्रिशूल, विष्णु का चक्र, पुष्पक विमान, कर्ण का कुंडल, इंद्र का वज्र और धनुष, यमराज का कालदंड आदि हैं.