नीदरलैंड ने स्वच्छता बरकरार रखने का एक अनूठा तरीका खोज निकाला है. दरअसल, नीदरलैंड में Crowded Cities नामक स्टार्टअप की शुरुआत की गई है, जिसका मुख़्य उद्देश्य वहां की स्वच्छता बरकरार रखना है. स्वच्छता अभियान की ख़ास बात ये कि इस कार्य के लिए कौवों को कचरा उठाना सिखाया जा रहा है. नतीजा ये है कि वो सड़क पर पड़ी सिगरेट बट्स उठा कर डस्टबिन में डाल सकते हैं.

Crowded Cities के Interaction डिज़ाइनर Ruben van der Vleuten, Experiment डिज़ाइनर Bob Spikman बताते हैं कि वो एक बार Joshua Klein नामक व्यक्ति से मिले, जो कुछ कौवों को Coins बटोरने की ट्रेंनिग दे रहा था. Joshua Klein की इस कला से प्रेरित हो कर इन दोनों ने इसका इस्तेमाल पर्यावरण स्वच्छता के लिए करने की सोची.

Image Source : hackaday

कैसे करता है काम

सबसे पहले कौवों सिगरेट बट उठाकर डिवाइस में डालता है, जिसके बाद डिवाइस इसे स्कैन कर सिगरेट बट होने की पुष्टि करता है. कौवों के इस व्यवहार को बढ़ावा देने के लिए डिवाइस उन्हें ईनाम स्वरूप भोजन भी देता है. साथ ही ये भी ये भी उम्मीद की जाती है कि ये कौवे अन्य कौवों को भी इसकी सूचना देंगे, ताकि वो भी इस सिस्टम में शामिल हो सकें.

Image Source : mikeshouts

रिपोर्ट्स के मुताबिक, हर साल करीब 4.5 ट्रिलियन सिगरेट बट् कचरे के रूप में जमा हो जाते हैं, जो कि सड़क, नालियों और नदियों से गुज़रते हुए समुद्र तटों पर Non-Biodegradable Waste का हिस्सा बन जाते हैं. ये कचरा समुद्री जानवरों के लिए काफ़ी ज़हीरला और हानिकारक होता है.

सितबंर 2017 के एक अध्यन में पाया गया कि New Caledonian Crows और Kea Parrot डिवाइस के महत्व को समझ कर, उसके अनुकूल काम कर सकते हैं. इससे पहले 2016 में एक रिसर्च में पाया गया था कि Apes की तरह ही कौवे और तोतों में भी समझने की क्षमता होती है.

वाकई प्रदूषण से निपटने का ये तरीका काबिले तारीफ़ है. हम आशा करते हैं कि ये पर्यावरण की स्वच्छता बनाए रखने का ये आईडिया सफ़ल साबित हो.

Source : thelogicalindian