आपने पिज़्ज़ा का वो विज्ञापन तो देख होगा कि अगर 30 मिनट में पिज़्ज़ा न आये तो पिज़्ज़ा फ्री. इस विज्ञापन के बाद बहुत से लोगों ने इसके सत्यता को जांचा था. मगर ये खबर आपको हैरान कर देगी कि पिज़्ज़ा देरी से पहुंचाने का खामियाज़ा डिलीवरी बॉय और उसके पिता के लिए मुसीबतों का पहाड़ लेकर आया है.

Source: pinimg

जी हां, ये खबर चेन्नई के पोरूर इलाके की है. जहां पॉकेट मनी के लिए एक 20 वर्षीय बीए स्टूडेंट पार्ट टाइम पिज़्ज़ा डिलिवरी बॉय की नौकरी कर रहा था. लेकिन एक बार उसने देरी से पिज़्ज़ा डिलिवर किया, जिससे नाराज़ होकर कस्टमर ने उसकी शिकायत पिज़्ज़ा कंपनी से कर दी. इसके बाद कंपनी ने उसे नौकरी से निकाल दिया.

नौकरी जाने की वजह से गुस्से में आकर उस डिलीवरी बॉय ने अपने पापा के साथ मिलकर कस्टमर की साथ खूब मार-पिटाई की.

Source: tradeindia

पुलिस के अनुसार, डिलीवरी बॉय एन दिनेश बाबू (20) और उसके पिता नारायणन (47) को गिरफ्तार कर लिया गया. उन दोनों पर आरोप है कि उन्होंने एक 30 वर्षीय पिज़्ज़ा कस्टमर के साथ बीते मंगलवार की रात मारपीट की. इस कसमार का नाम एन अस्वत्थामन है और उन्होंने इसके बाद बाप-बेटे के खिलाफ FIR दर्ज कराई थी.

पूरा मामला ये हुआ था कि अस्वत्थामन ने बीते मंगलवार की रात पोरूर में अपने घर पर एक फेमस पिज़्ज़ा आउटलेट से पिज़्ज़ा ऑर्डर किया था. उन्हें उम्मीद थी कि जल्दी से जल्दी उनका आर्डर आ जाएगा. लेकिन जब डिलिवरी बॉय दिनेश देरी से पिज्जा लेकर पहुंचा, तो उन्होंने आर्डर लेने से मना कर दिया और उसे वापस भेज दिया.

और फिर उन्होंने पिज्जा कंपनी को फोन कर लेट डिलिवरी की शिकायत की. दिनेश जब वापस रेस्तरां पहुंचा, तो उसे नौकरी से निकाल दिया गया. जिसके बाद बाप-बेटे नेअस्वत्थामन के घर जाकर उसकी पिटाई कर दी. घायल अस्वत्थामन को अवस्था मेंपास के ही एक प्राइवेट हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया. हालांकि, इस समय दोनों पिता-पुत्र पुलिस की हिरासत में हैं और जेल की हवा खा रहे हैं.

Source: timesofindia