दुनिया में कोई भी देश हो हर देश के अपने ट्रैफिक रूल्स होते हैं उर उन नियमों का उलंघन करने पर सज़ा के तौर पर जुर्माना भी लगाया जाता है. लेकिन दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने अब लोगों द्वारा ट्रैफिक नियमों को तोड़ने पर सज़ा देने का एक नया तरीका निकाला है. अभी तक तो नियम तोड़ने वाले लोगों के खिलाफ़ दिल्ली पुलिस पहले चलान करती थी, पर अबकी बार दिल्ली पुलिस लोगों को नियम तोड़ने पर भजन या देशभक्ति गीत सुनाएगी.

Source: indiatimes

अगर आपसे पूछा जाए कि आप ड्रिंक करके ड्राइव करते हैं, तो शायद आपका जावा हां होगा, तो आपको बता दें कि अब आप ऐसा न करने की कसम खा लेंगे. जी हां, सड़क परिवाहन नियम का उल्लंघन करने के कारण कई तरह की दुर्घटनाएं और हादसे होते रहते हैं आये दिन. इन दुर्घटनाओं में अधिकतर ड्रिंक एंड ड्राइविंग के कारण होते हैं. इसलिए अब दिल्ली में अगर कोई ड्रिंक एंड ड्राइविंग में पकड़ा जाता है तो उस पर भारी रकम का जुर्माना नहीं, बल्कि अब दिल्ली पुलिस उनको म्यूज़िकल पाठ पढ़ाएगी. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पुलिस डिपार्टमेंट नियमों को तोड़ने वालों को सज़ा देने के लिए एक योजना बना रही हैं, जिसके अंतर्गत जो लोग ड्रिंक एंड ड्राइव या फिर ट्रैफिक रूल्स को तोड़ते हुए पाए जायेंगे उनको 1 दिन के लिए म्यूज़िकल थैरेपी ट्रेनिंग प्रोग्राम में भेजा जाएगा.

Source: indiatimes

इसके अलावा रेड लाइट क्रॉस करना, माल वाहनों में यात्रियों को ढोने वाले और बिना लाइसेंस ड्राइविंग करने वालों के चालान काटे जायेंगे और उनको कोर्ट से अपने चालान क्लियर कराने होंगे जुर्माना देकर. इसके साथ ही साथ नियम तोड़ने वालों को म्यूजिकल ट्रेनिंग प्रोग्राम को अटेंड करना भी ज़रूरी होगा. वरण उनको उनकी गाड़ी के सील किये गए कागज़ात वापस नहीं मिलेंगे.

Source: indiatimes

गौरतलब है कि अब ट्रैफिक पुलिस अपने इस ट्रेनिंग प्रोग्राम को अपडेट करने का विचारकर रही है और इस प्रोग्राम में अब भजन और देशभक्ति गीतों को भी शामिल किया जाएगा. इसका मकसद लोगों को सड़क नियमों के बारे में और अधिक जागरूक करना होगा.

एक पुलिस अधिकारी का कहना है, 'हम ट्रेनिंग प्रोग्राम में देशभक्ति गीत, प्रार्थना गीत, भजन और गाने डालने की योजना बना रहे हैं. ये गाने ऐसे होंगे जिनमें इमोशनल वैल्यू तो होगी ही साथ ही साथ कोई न कोई ज्ञानवर्धक बात भी होगी.'

इसकी क्लासेज़ पश्चिमी दिल्ली के टोडापुर स्थित दिल्ली पुलिस हेडक्वार्टर में ही संचालित की जायेंगी. लेकिन अब अधिकारी इन गीतों के साथ-साथ ट्रेनिंग में अभियुक्त के क्रिएटिव सैटिस्फैक्शन के लिए बॉलीवुड गानों को भी लाने पर विचार कर रहे हैं.

जाहिर है कि ये गाने एक सकारात्मक सन्देश देने वाले होंगे, न कि घटिया शब्दों वाले गीत. पुलिस को उम्मीद है कि गानों के जरिये मिलने वाले सन्देश से लोगों को एक सकारात्मक संधेश तो मिलेगा ही साथ ही उनको रोड सेफ़्टी के प्रति जागरूकता होगी.

Source: firstpost

आपको बता दें कि कुछ दिनों पहले राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा सप्ताह के दौरान दिल्ली की ट्रैफिक पुलिस ने नियमों को तोड़ने वाले वाहन चालकों को फूल देकर ठीक से गाड़ी चलाने की नसीहत दी थी.

अब देखना ये है कि इस योजना को कब से शुरू किया जाता है. हालांकि, इस प्रस्ताव पर विचार-विमर्श तो चल ही रहा है.

Source: indiatimes