हिंदुस्तान में किसी भी बच्चे की परवरिश तब तक अधूरी मानी जाती है, जब तक मां के हाथों से उसकी पिटाई न हो जाए. इसे हिंदुस्तानी बच्चों का डीएनए ही कहिये कि वो भी बिना पिटे सुधरने का नाम ही नहीं लेते. ऐसे में निरुपमा राव जैसी बेचारी हिंदुस्तानी मां को भी मदर इंडिया की नरगिस बन कर अपना ब्रह्मास्त्र निकालना पड़ता है. आज हम आपको हिंदुस्तानी मां के कुछ ऐसी ही हथियारों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनका इस्तेमाल करके वो बच्चों को लाइन पर ले आती है.

चप्पल/ जूते

Source: Shopkop

चप्पल वो अचूक हथियार है, जिसका ज़िक्र भले ही शास्त्रों में नहीं मिलता, पर ज़्यादातर भारतीय मां के हथियारों की लिस्ट में चप्पल किसी मिसाइल की तरह काम करता है. इसका सबसे बड़ा फ़ायदा ये है कि इसका इस्तेमाल करके मां दूर से भी बच्चे तक अपनी बात पहुंचा सकती है.

बेलन

Source: gaatha

पता नहीं कितने बच्चों को ये सौभाग्य प्राप्त हुआ है कि वो रोटी को गोल करने वाले इस अद्भुत हथियार की भेंट चढ़े हैं. मम्मी के खाना बनाते समय किसी शरारत को करना, तो जैसे रोटी के साथ-साथ पिटाई को दावत देना है.

बैट

Source: businessinsider

ग्राउंड में बॉलर्स के छक्के छुड़ाने वाला यही बैट जब मम्मी के हाथों में आता है, तो इंद्र का वज्र बन जाता है.

बोतल

Source: wisegeek

अपनी आप बीती में कुछ लोगों ने Fridge में रखी पानी की बोतल से पीटने का ज़िक्र किया है.

आंख दिखाना

Source: scoopwhoop

रिश्तेदारों की मौजूदगी में पिटाई का काम मां की आंखें ही कर दिया करती थीं.

मेलोड्रामा

Source: giphy

मेलोड्रामा एक ऐसा हथियार है, जिसका इस्तेमाल मां आज भी अच्छे से करना जानती है. अब जैसे हर दिन घर में शादी के लिए होने वाले मेलोड्रामे को ही याद कर लीजिये.

जो करना है करो

Source: vagabomb

इस ब्रह्मास्त्र का इस्तेमाल मां उस समय करती है, जब सभी तरह के हथियार नाकाम हो जाते हैं. आंखों से निकलने वाले आंसू इस ब्रह्मास्त्र की शक्ति को और भी ज़्यादा बढ़ा देते हैं.

हर पिटाई के साथ एक प्यारी सी याद जुड़ी हुई. ऐसी ही कोई याद आपके पास भी हो, तो शेयर कर दो यार. हमें भी पता लगे कि मांओं के पास और कौन-कौन से हथियार हैं.