प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने गुजरात चुनाव प्रचार में कोई कमी बाकी नहीं रखी. हम कहना तो नहीं चाहते लेकिन गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी भी इस चुनाव प्रचार में कहीं न कहीं मोदी जी से पिछड़ ही रहे हैं. गुजरात के बनासकांठा में भाषण देते हुए मोदी जी ने ये सवाल कर दिया, 'आख़िर मैंने ऐसा किया ही क्या है?'

गुजरात चुनाव प्रचार के दौरान ही मोदी जी और राहुल गांधी एक-दूसरे के खिलाफ़ काफ़ी कुछ कहा. इसी से भावुक होकर हमारे प्रधानमंत्री ने सवाल कर दिया, 'आख़िर मैंने ऐसा किया ही क्या है?'

मोदी जी के इस प्रश्न का फ़ेसबुक पोस्ट द्वारा Devdan Chaudhri नामक एक शख़्स ने 22 Points में जवाब दिया है.

1. नोटबंदी कर के देश की अर्थव्यवस्था का सत्यानाश कर दिया और इसकी ज़िम्मेदारी तक नहीं ली.

2. सदियों से हमारा देश जिस एकता के लिए जाना जाता था, उसे न सिर्फ़ धार्मिक पर क्षेत्रिय, भाषाई और सांस्कृतिक तौर पर बांट दिया.

3. सनातन धर्म/हिंदुत्व का अर्थ ही बदल दिया और सावरकर के फ़ासीवादी हिंदुत्व नीति का प्रचार किया.

4. झूठा राष्ट्रवाद फैलाया और (आपके) कारनामों ने सिर्फ़ देश को नुकसान पहुंचाया.

5. आपकी सरकार देश की नहीं, हिंदुत्व की है. आपने अपने विदेशी दोस्तों की कंपनियों को इस देश में घुसने का रास्ता दिया.

6. झूठे वादे और कसमें, जो रोज़ाना आप अलग-अलग ज़रियों से हम तक पहुंचाते हैं.

7. भारतीय संविधान की अवमानना की और चरमपंथी राष्ट्रवाद को बढ़ावा दिया और हमारी निजी ज़िन्दगी को आधार कार्ड द्वारा जगजाहिकर कर दिया.

8. लोकतंत्र के स्तंभों को नेस्तोनाबूत कर दिया और पत्रकारों की शक्ति का हनन किया.

9. लोगों की आवाज़ को अनसुना किया और अपनी सोच उन पर थोपी.

10. आप ख़ुद Anti-Intellectual हैं और आपने बुद्धिजीवियों के प्रति लोगों की नफ़रत को बढ़ावा दिया.

11. अभिव्यक्ति की आज़ादी को ख़त्म करने की पूरी कोशिश की.

12. 2014 से अब तक सारे Human Development Indexes को डूबो दिया.

13. भ्रष्टाचार के खिलाफ़ एक नकली लड़ाई, जब कि आपकी ख़ुद की सरकारी पॉलिसीज़ भ्रष्टाचार से भरी हैं.

14. सवालों से भागने की आपकी आदत- जब से आप सत्ता में आए हैं, एक भी प्रेस कॉन्फ़्रेंस नहीं की.

15. PR, पब्लिसिटी, इवेंट्स और अपना Propaganda फैलाने पर ध्यान दिया और देश की असल समस्याओं पर कान तक नहीं धरे.

16. भारत की Non-Aligned Foreign Policy की धज्जियां उड़ा दी.

17. अपने भाषणों से आपने नफ़रत और लालच को भी हवा दी और लोगों की भावनाओं के साथ खिलवाड़ किया.

18. अपने इर्द-गिर्द असक्षम लोगों को रखा, जिनके पास देश चलाने का रत्तीभर भी Talent नहीं है.

19. बड़े-बड़े आईडियाज़ से अपने दिमाग़ को भर के रखा और अपनी ग़लत Priorities सेट की. सबसे महत्वपूर्ण बात, यहां भी कुछ करने में असफ़ल ही रहे.

20. विकास का मतलब समझते ही नहीं और न ही Social Justice के महत्व को समझा.

21. ख़ुद की अमीरी में कमी नहीं, लेकिन मध्यम वर्ग और गरीबों के सिर पश्चिम देशों से प्रेरित होकर ऐसी Policies मढ़ दी, की उनकी हालत और दयनीय हो गई.

22. हमारे देश के खिलाफ़ ही अपने ज़हरीले हिंदुत्व ब्रिगेड को खड़ा कर दिया और आम जनता के विश्वास की लाज नहीं रखी.

और आप पूछते हैं, 'मैंने ऐसा किया ही क्या है?'

ऐसा शायद पहली बार हुआ है कि किसी आम आदमी ने इतने खुले तौर पर प्रधानमंत्री को जवाब दिया हो. Devdan के इस पोस्ट का जवाब प्रधानमंत्री देते हैं या नहीं, ये देखना होगा.