इस साल की शुरुआत में धोनी ने कप्तानी के पद से इस्तीफ़ा दे कर सब को चौंका दिया था. धोनी अब कप्तानी के भार से हट कर वो काम कर रहें हैं, जो शायद हर आम इंसान करना चाहेगा. हाल ही में विजय हज़ारे ट्राफ़ी खेलने के लिए धोनी ने झारखंड टीम के साथ 13 साल बाद ट्रेन में सफ़र किया.

इस सफ़र की तस्वीरें सोशल मीडिया पर काफ़ी वायरल भी हुईं. इतना ही नहीं, कोलकाता के ईडन गार्डन में मैच खेल रहे धोनी ने इस मौके पर अपने पुराने दोस्तों से भी मिलने का प्लान बना लिया. ये वो दोस्त थे, जो धोनी की पहली नौकरी यानी खड़गपुर रेलवे में टीटी की नौकरी के दौरान बने थे.

खड़गपुर में धोनी ने उस चाय वाले से भी मुलाक़ात की, जहां वो अकसर बैठा करते थे. धोनी से जैसे ही चाय दुकान मालिक को पहचाना, उसकी आंखें नम हो गईं.

धोनी अपने दोस्तों से मिलने के लिए खड़गपुर पहुंचे थे. वहां अपने पुराने दोस्तों से उन्होंने मुलाक़ात की और ये मुलाक़ात शाम होते-होते उनके होटल के कमरे तक पहुंच गई.

धोनी का कोलकाता से एक अलग ही जुड़ाव रहा है. झारखंड की तरफ़ से खेलते हुए उन्होंने कई बार इस मैदान पर मैच खेले हैं. इतना ही नहीं, उनकी मुलाक़ात साक्षी से कोलकाता में ही हुई थी.

वहीं विजय हज़ारे ट्राफ़ी में धोनी ने अपने बल्ले का कमाल दिखाया. उनकी 107 गेंदों में 129 रनों की पारी ने झारखंड को मैच जीतने में बड़ा योगदान दिया. ये झारखंड की तरफ़ से वन-डे खेलते हुए उनका पहला शतक था.

धोनी, कभी भी अपने करीबियों को नहीं भुलते. शायद यही कारण है कि आज वो देश के सबसे सफ़ल कप्तान कहलाते हैं और इस वाकये से ये भी साबित हो गया कि धोनी दोस्तों के दोस्त भी हैं.

Image Source: Facebook