बिरयानी, पुलाव और Fried राइस - इन तीनों में उतना ही अंतर है, जितना कि दो लोगों में. मगर कई बार लोगों को ये बात समझ नहीं आती. अंतर तो छोड़िये, कई बार लोगों को तो इनके स्वाद भी एक जैसे लगने लगते हैं. हर वो इंसान, जो अपने आप को 'Foodie' कहता है, उसके लिए इन तीनों के बीच का अंतर जानना बेहद ज़रूरी है.

अगर आप इन लोगों में से एक हैं, तो आपकी बहुत बड़ी गलतफ़हमी आज दूर होने वाली है.

ये हैं बिरयानी, पुलाव और फ़्राइड राइस के बीच के सबसे बड़े अंतर, जो चावल पसंद करने वाले हर इंसान को पता होने चाहिए.

1. मूल

Source: b'Source: Youtube'

बिरयानी नवाबों की खोज थी. भारत में सबसे ज़्यादा लोकप्रिय हैं, लखनवी बिरयानी, हैदराबादी बिरयानी और कलकत्ता की बिरयानी. वहीं, पुलाव तुर्कियों की देन है. तुर्की का 'पिलाफ़', भारतीय पुलाव से एकदम मिलता-जुलता है. फ़्राइड राइस, चीन की देन है, इसमें सारे एशियाई फ्लेवर यूज़ किये जाते हैं

2. बनाने की तकनीक

Source: b'Source:\xc2\xa0Indiaphile'

बिरयानी का चावल बनाने के लिए 'Draining Technique' का इस्तेमाल होता है, जिसमें चावल को उबालने के बाद, पानी हटा कर उसको सुखाया जाता है. पुलाव बनाने के लिए 'Absorption Method' का इस्तेमाल होता है, जिसमे चावल और सब्ज़ियां सारा पानी सोख लेते हैं. वहीं फ़्राइड राइस बनाने के लिए पहले से पके हुए चावल इस्तेमाल किये जाते हैं.

3. लेयरिंग

Source: b'Source:\xc2\xa0Serious Eats'

बिरयानी हमेशा 'Layers' में बनती है, जिसमें से एक तह मीट की और एक तह भुने हुए प्याज़ की होती है. पुलाव में सब्ज़ियां, मीट और चावल, सब एक साथ पानी डाल कर पकाया जाता है. वहीं फ़्राइड राइस के लिए पहले सब्ज़ियों को भूना जाता है और फिर उसमें पहले से पका हुआ चावल डाला जाता है.

4. मसाले

Source: b'Source: 24 Carat Masale\xc2\xa0'

बिरयानी में दालचीनी, लौंग, इलाइची, केसर जैसे खुशबूदार मसलों का इस्तेमाल होता है. पुलाव में हलके मसाले पड़ते हैं. वहीं फ़्राइड राइस में एशियाई मसाले जैसे अजीनोमोटो और सोया सॉस का इस्तेमाल होता है.

5. आंच

Source: b'Source:\xc2\xa0Clovis Community Education'

बिरयानी लम्बे समय तक हल्की आंच पर पकाई जाती है और बर्तन को 'दम' लगा कर सील किया जाता है ताकि मसलों की खुशबू बरक़रार रहे. पुलाव मध्यम आंच पर कम देर के लिए पकाया जाता है. वहीं फ़्राइड राइस हमेशा तेज़ आंच पर पकाया जाता है.

इन अंतरों की वजह से ही तीनों के स्वाद में इतना फ़र्क होता है. अगर आप ये बातें नहीं जानते थे, तो आप पूरी तरह से इन डिशेज़ का लुत्फ़ नहीं उठा रहे थे. अब से आप जब भी ऑर्डर करें, ध्यान रखियेगा कि चावल से बनने वाली ये तीनों अलग चीज़ें हैं.