11 जुलाई की शाम मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग ने MP PCS-2016 का रिज़ल्ट फ़ाइनल हुआ जिसमें दौलतगंज में रहने वाली मिनी अग्रवाल को भी क़ामयाबी मिली है. मिनी आंशिक रूप से दिव्यांग हैं.

मिनी की ज़िन्दगी सामान्य नहीं थी. दौलतगंज में रहने वाली मिनी की लम्बाई ढाई फ़ीट है. लेकिन इनके हौसले आसमान छूते थे. मिनी इंदौर में श्रम अधिकारी के रूप में डिपार्टमेंटल ट्रेनिंग कर रही हैं.

इस साल के मध्यप्रदेश PCS परीक्षा में मिनी को सहायक संचालक उद्योग प्रबंधक की पोस्ट मिली है. सन 2000 मिनी के पैरों के चार मेजर ऑपरेशन हुए थे, जिसकी वजह से इन्हें 8 साल तक बेड पर रहना पड़ा था. इसके बाद इन्होंने किसी तरह 12वीं की परीक्षा तो पास कर ली, लेकिन तीन साल के लिए इनकी पढ़ाई रुक गई.

3 साल पढ़ाई से ब्रेक लेने के बाद मिनी ने बीकॉम में एडमिशन लिया और 2012 में पहली बार MP PCS का एग्जाम दिया. मिनी ने अपनी सफ़लता का श्रेय माता-पिता को दिया है.

MP PCS की परीक्षा में क़ामयाबी मिलने के बाद मिनी का कहना है कि, अब मैं उन साथियों से संपर्क करना चाहती हूं, जिन्हें किसी न किसी तरह की शारीरिक समस्या है, लेकिन मन में आगे बढ़ने का हौसला है.

Article Source: Naidunia