रिसर्च से खुलासा हुआ है कि एक वक़्त में बंगाल की खाड़ी में द्वीपों की श्रंखला हुआ करती थी, बिलकुल Indian Ocean की ही तरह. ये रिसर्च Oceanographers द्वारा की गई है. इसके मुताबित करीब 60 से 80 मिलियन साल पहले इस जगह पर कई द्वीप हुआ करते थे.

इस रिसर्च के मुताबिक इन द्विपों के विलुप्त होने का मुख्य कारण था गंगा और ब्रह्मपुत्र नदी का इसमें मिलना और इसके जल स्तर में लगातार वृद्धी होना.

National Institute of Oceanography के प्रोफ़ेसर K.S. Krishna का कहना है कि 'आज हमें कुछ द्वीपों के हिस्से दिख जाते हैं, लेकिन अब ज़्यादातर द्वीप पानी के अंदर समा गए हैं. ये सच है कि कभी बंगाल की खाड़ी में कई द्वीप हुआ करते थे'.

इस रिसर्च में करीब तीन दशकों का वक़्त लगा है. इसमें दुनिया के कई अलग-अलग वैज्ञानिकों की मदद ली गई है और इसके बाद इस रिसर्च के निष्कर्ष पर पहुंचा गया है.

अभी भी उन लाखों साल पुराने द्वीपों के कुछ हिस्से यहां दिख जाते हैं. इनके बनने का कारण भी इस रिसर्च से सामने आया है. रिसर्च के मुताबिक बंगाल की खाड़ी के अंदर एक वक़्त कई ज्वालामुखी थे, जिनके फटने के कारण निकले मलबे ने इन द्वीपों को जन्म दिया था.

हमारी प्रकृति ने अपने अंदर कई राज छिपा रखे हैं, ऐसी रिसर्च उन राज़ों को खोलने और हमें अपनी प्रकृति को और बेहतर जानने में मदद करती है.

Image Source: indiatimes