'पद्मावती' के बनने के समय से ही ये फ़िल्म विवादों से घिरी रही है. अब जब फ़िल्म रिलीज़ होने वाली है, मेवाड़ के राजघराने ने भी इस पर ऐतराज़ जताया है. लोग तो प्रधानमंत्री मोदी तक से फ़िल्म को बैन करने की अपील कर रहे हैं.

मेवाड़ के राजघराने के महेंद्र सिंह मेवाड़ की बेटी Baijiraj Trivikrama Kumari Jamwal ने इस फ़िल्म पर प्रतिक्रिया दी है. वो लोकसभा की सदस्य भी रह चुकी हैं.

उन्होंने कहा है कि वो अपने परिवार का नाम फ़िल्म द्वारा ख़राब किये जाने से आहत हैं. उनका कहना है कि फ़िल्म को बॉलीवुड मसाला कहा जाना चाहिए. 'घूमर' गीत से ही पता चल रहा है कि फ़िल्म में रानी पद्मिनी के बारे में ग़लत तथ्य दिखाए गए हैं.

ये इतिहास पर आधारित न होकर महज़ एक मनगढ़ंत कहानी है और इसका प्रचार इसी रूप में किया जाना चाहिए. इसे इतिहास पर आधारित बता कर नयी पीढ़ी को गुमराह किया जा रहा है.

अलग-अलग इतिहासकार इतिहास को अलग तरह से दिखाते हैं. संजय लीला भंसाली को किसी विश्वसनीय इतिहासकार से सलाह लेनी चाहिए थी. उन्होंने ऐसा नहीं किया.

महारानी निरुपमा कुमारी का कहना है कि अब जब उन्होंने फ़िल्म बना ही ली है, तो अब इतिहासकारों को दिखाने का क्या फ़ायदा है.

रानी पद्मिनी की असली कहानी के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा कि जो कहानी फ़िल्म में दिखाई जा रही है, वो गाइड पर्यटकों का मनोरंजन करने के लिए सुना देते हैं. प्रमाण इसी बात के हैं कि रानी पद्मावती रतन सिंह रावल की पत्नी थीं, लेकिन अलाउद्दीन खिलजी ने उनके कारण आक्रमण नहीं किया था. वो महज एक बहाना थीं.

रणवीर सिंह, दीपिका पादुकोण और शाहिद कपूर अभिनीत 'पद्मावती' एक दिसंबर को रिलीज़ हो रही है और इसे संजय लीला भंसाली ने बनाया है.

Source: Hindustantimes