21 नवंबर को अमेरिका की राजधानी वॉशिंगटन डीसी में सर्दी ज़ोरों पर थी. तापमान -2 डिग्री सेल्सियस तक गिर गया था. इस पर राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप का एक ट्वीट आया, जो कि नई बात नहीं है. अपने ट्वीट में उन्होंने उन लोगों का मज़ाक बनाने की कोशिश की जो 'ग्लोबल वार्मिंग' को एक बड़ी समस्या मानते हैं (ये भी नई बात नहीं है).

ट्रंप ने अपने ट्वीट में कहा कि बढ़ती ठंड की वजह से सर्दी के पुराने सभी रिकॉर्ड टूट सकते हैं. वो ग्लोब्ल वार्मिंग की बात का क्या हुआ?

ट्रंप के ट्वीट का जवाब भारतीय मूल की एक लड़की ने अपने ट्वीट और तर्क से दिया, जिसने सब का दिल जीत लिया.

आस्था ने अपने ट्वीट में कहा कि वो ट्रंप से 54 साल छोटी है और हाल ही में उसने स्कूली शिक्षा साधारण अंकों के साथ क्लियर की है, फिर भी उसे पता है कि मौसम और वातावरण दो अलग चीज़ है.

आस्था के इस ट्वीट ने पांच हज़ार री-ट्वीट बटोरे और उसे चौबिस हज़ार लोगों ने लाइक किया. यहां तक दुनियाभर के मीडिया हाउस ने इस ट्वीट को जगह दिया.

ग्लोबल वार्मिंग के ऊपर ट्रंप की सोच जगज़ाहिर है. आठ साल पहले उन्होंने अपने एक ट्वीट में कहा था कि ग्लोबल वार्मिंग चीनियों द्वारा शुरु किया गया एक दुष्प्रचार है ताकि अमेरिकी वस्तुओं को प्रतिस्पर्धा से बाहर निकाला जा सके.

वैसे एक और भी देश के प्रधानमंत्री हैं, जिन्हें लगता है कि क्लाइमेट चेंज नहीं हुआ है, हम चेंज हो गए हैं!