बीते 29 अगस्त को मुंबई में हुई भारी बारिश के कारण भागती-दौड़ती मुंबई मानों ठहर सी गई, लेकिन इस बीच मुंबई वालों का हौसला कम नहीं हुआ. एक ओर जहां मुसीबत की इस घड़ी में अस्त-व्यस्त मुंबई पस्त दिखी, तो वहीं दूसरी ओर मुंबईवाले कमर कसकर एक-दूसरे के साथ खड़े दिखाई दिए. इस दौरान कुछ लोगों की दरियादिली भी सामने आई, ऐसे ही दरियादिली लोगों में ये ओला कैब ड्राइवर सिकंदर खान भी हैं.

इस ओला कैब ड्राइवर सिकंदर खान की महानता का ज़िक्र करते हुए पूजा वैश्य नामक इस महिला ने अपनी फ़ेसबुक पोस्ट में लिखा, 'मुंबई में हुई भारी बारिश के दौरान होटल तक पहुंचने के लिए मैंने ओला कैब बुक की, पर सड़कों पर 3 फ़ीट गहरा पानी और भीषण जाम होने के कारण कैब परेल फ़्लाईओवर पर फंस गई और आगे नहीं जा पाई. इस बीच मुझे बहुत गुस्सा आ रहा था, फिर बीच रास्ते में ही मैंने कैब से उतरने का फ़ैसला किया, लेकिन सिकंदर खान ने मुझे ऐसा करने से मना किया और कहा कि मैडम पानी बहुत भरा हुआ आपका बाहर निकलना बिल्कुल भी सेफ़ नहीं है. आप परेशान मत हो जैसे ही जाम और सड़क से पानी कम होगा, मैं आपको होटल तक पहुंता दूं.'

'करीब 10 घंटे मुझे कैब में ही बिताने पड़े, इस दैरान सिकंदर मेरे लिए पिज़्ज़ा भी लाया और उसने पैसे भी लेने से मना कर दिया, कैब में करीब 10 घंटे बिताने के बाद मेरी हिम्मत टूटने लगी और मैंने पैदल ही होटल तक पहुंचने का निर्णय किया. ऐसे में इस ओला ड्राइवर ने मुझे अपना छाता दिया, इतना ही नहीं उसने अपनी कैब बीच सड़क पर छोड़, मेरा हाथ पकड़ा झमाझम पानी के बीच मुझे होटल तक छोड़ा. इसके बाद जब उसे पैसे देने लगी, तो लेने से इंकार कर दिया, फिर मैंने काफ़ी ज़िद की, तब जा जा कर उसने पैसे लिए.'

पूजा की इस पोस्ट को अबतक 15 हज़ार लोग लाइक और करीब 1 हज़ार से ज़्यादा लोग शेयर कर चुके हैं. पूजा ने इस ड्राइवर को सम्मानित करने की मांग भी की है. मुसीबत के पल में मुंबईवालों का ये रूप देखकर अच्छा लगा, शायद इसीलिए मुंबई को 'आम्ची मुंबई' कहा जाता है.

Source : topyaps