महाराष्ट्र के नागपाडा क्षेत्र में भयावह घटना सामने आई है. चौकी मोहल्ला इलाके के एक इमाम पर आरोप है कि उसने आठ साल की मासूम बच्ची से तीन बार रेप किया है. घटना का खुलासा होने के बाद से बच्ची के घरवाले सदमे में है. बच्ची के पिता को यकीन ही नहीं हो रहा था कि एक इमाम भी ऐसा कर सकता है.

पीड़िता के पिता ने बताया, ‘मेरे चार बच्चे मदरसे में तालीम हासिल करने के लिए जाते थे. ये जगह घर से महज एक गली दूर है. मेरी दो बेटियां, जिनकी उम्र 12 और 8 साल है, पिछले छह महीने से रोज़ मदरसे जाती थीं. हमें बताया गया था कि इमाम बहुत अच्छा आदमी है. यहां तक कि मेरा भाई भी रोज वहां जाता था.’

Source: Jansatta

बीते 9 अक्टूबर को बच्ची घर लौटी तो उसने पेट दर्द की शिकायत की. इस बच्ची की बड़ी बहन ने शक के आधार पर सारी जानकारी मां को दे दी. वहीं बच्ची के बिज़नेसमैन पिता ने कहा, '8 अक्टूबर को मैं नासिक में था. अगले दिन घर लौटा तो पत्नी ने बताया कि इमाम ने हमारी बच्ची के साथ कुछ गलत किया है. शुरू में लगा की ये झूठ है. आखिर एक इमाम कैसे ऐसी हरकत कर सकता है लेकिन हमारा शक यकीन में बदल गया. 10 अक्तूबर को जब मैं अपनी बेटी को मदरसे से लेकर आया तो वो बुरी तरह डरी हुई थी. हमने पुलिस में शिकायत करने से पहले एक निजी डॉक्टर से मदद ली. क्योंकि एक तरफ कौम है, तो एक तरफ बेटी है.'

शक यकीन में बदलने के बाद 14 अक्टूबर को इमाम के ख़िलाफ़ शिकायत दर्ज कराई गई. मेडिकल जांच में भी बच्ची के साथ दुष्कर्म की पुष्टि हुई. आरोपी इमाम को शफ़ी मस्जिद से भी हटा दिया गया है. ये इमाम मूल रूप से नेरल का रहने वाला है. दूसरी तरफ कक्षा पांच में पढ़ने वाली ये बच्ची इतनी डरी हुई है कि कुछ भी बोलने में काफ़ी डर रही है. पुलिस ने मस्जिद के आसपास लगे सीसीटीवी फ़ुटेज की छानबीन शुरू कर दी है. हालांकि मदरसे में कैमरा नहीं लगा था. 

यही नहीं, स्थानीय लोग इस परिवार पर शिकायत वापस लेने का दबाव भी डाल रहे हैं लेकिन बच्ची की मां ने इस मामले में निडर होकर लड़ने का फ़ैसला किया है. गौरतलब है कि मंगलवार 24 अक्टूबर को जेजे मार्ग पुलिस ने आरोपी अब्दु्ल्लाह नाजी को मेडिकल जांच के लिए जेजे हॉस्पिटल भेजा. जहां से उसे चार दिन के लिए पुलिस रिमांड में भेज दिया गया.

Source: Indian Express