66 की उम्र में शादी करना शायद समाज को अटपटा लगे, लेकिन गजराज और कमला देवी को इसकी परवाह नहीं है. गजराज की उम्र 66 साल है और कमला की 47. दोनों शादी कर चुके हैं और गुरुग्राम के राजेन्द्र नगर में किराये के एक छोटे से कमरे में रहते हैं.

गजराज बताते हैं कि उनके परिवार ने उन्हें बेसहारा छोड़ दिया था. कमला उनके जीवन में उम्मीद की किरण बन के आई है. इस उम्र में शादी करने के लिए उन्हें समाज से बहुत विरोध भी झेलना पड़ा.

गजराज कहते हैं:

मैंने कमला से सिर्फ़ प्यार के लिए शादी नहीं की. जब पिछले साल मेरी पत्नी की मौत हुई, तो मेरे दो बेटों और दो बेटियों ने मुझे बेसहारा छोड़ दिया.

अब गजराज को और उनकी पत्नी को उनके बेटे जान से मार देने की धमकी दे रहे हैं. वो उनसे सारी संपत्ति छीनना चाहते हैं.

हरियाणा स्टेट इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड (HSEB) से रिटायर हुए गजराज के पास लगभग 15 करोड़ की संपत्ति है. इसमें उनकी दुकान और दो घर शामिल हैं, जिन पर उनके बेटों ने कब्ज़ा कर रखा है.

गजराज ने बताया कि जब वो अपने एक प्लॉट पर कमरे बनवा रहे थे, तब कमला वहां मजदूरी करती थी. उनके घरवाले उन्हें खाना नहीं देते थे, तो वो उन्हें खाना खिलाती थी. बिहार से आई मजदूर कमला के लिए पहले उनके मन में कोई फ़ीलिंग नहीं थी, लेकिन जब उनके बच्चे रिश्तेदारों में ये बात फ़ैलाने लगे कि उन्होंने एक औरत रख ली है, तब उन्होंने कमला से शादी कर ली.

कमला के भी दो बेटे और दो बेटियां हैं, लेकिन उनका ख़याल रखने वाला कोई नहीं है. उनके पति की वर्षों पहले मृत्यु हो गयी थी.

कमला ने कहा:

मेरा परिवार बहुत ग़रीब है, इसलिए मैं यहां मजदूरी कर के पैसे कमाने आई थी. मेरे तीन बच्चों की शादी हो चुकी है और एक 11वीं में पढ़ रहा है. मुझे अपने सिर पर छत के अलावा कुछ नहीं चाहिए. मेरे परिवार को मेरी शादी से कोई ऐतराज़ नहीं है.

गजराज के बेटे ने पिछले हफ़्ते कमला का अपहरण कर लिया था. उसने उसके साथ मार-पीट भी की. जब पड़ोसियों ने पुलिस को फ़ोन किया, तब कमला को छुड़ाया जा सका.

गजराज अपनी प्रॉपर्टी और पेंशन से एक आश्रम खोलना चाहते हैं. उन्होंने कहा है कि वो अपने बेटों को एक कौड़ी नहीं देंगे. इतना ही नहीं, उन्होंने अपने बेटों के खिलाफ़ केस भी दायर कर दिया है. फिलहाल वो अपनी पत्नी की देखभाल कर रहे हैं.

गजराज कहते हैं:

मेरे जैसे कई लोगों के साथ बुढ़ापे में बच्चे ऐसा सलूक करते हैं. मैं उन सभी बेसहारा लोगों के लिए एक वृद्धाश्रम खोलना चाहता हूं.

Source: Indiatimes