21वीं शताब्दी के कुछ खास आविष्कारों में से एक ड्रोन भी है. आज के वक़्त में ड्रोन नेताओं की रैली से लेकर, पड़ोसी की शादी और फ़िल्म शूट से लेकर Pizza डिलीवरी तक इस्तेमाल हो रहा है. इसी ऐतिहासिक आविष्कार में एक और गुण जोड़ा है, बेंगलुरु के कुछ इंजीनियरिंग छोत्रों ने.

आग लगने पर दमकल का काम करेगा ड्रोन

Source- Priv Representational Image

बेंगलुरु के Anekal के कुछ छात्रों ने ऐसा ड्रोन बनाया है, जिसमें लोगों की जान बचाने का भी फ़ीचर है. ये श्री साईराम इंजीनियरिंग कॉलेज के दूसरे वर्ष के छात्र हैं. Bangalore Mirror की रिपोर्ट के अनुसार, फ़ायर बॉल छोड़ता है जो आग में ​गिर कर फ़ट जाता है और Fire Extinguisher का काम करता है. इन फ़ायर बॉल्स में सोडियम बायकारबोनेट है, जो आग में गिर पर फटते हैं और कार्बन डाई आॅक्साइड छोड़ते हैं. ये Co2 ऑक्सीजन सोख लेती है और आग को बढ़ने और फ़ैलने से रोक लेती है.

इसको बनाने वाली टीम के दिग्विजय कुमार ने बताया कि ये 40 kmph की रफ़्तार से उड़ेगा और इसकी 4000 mah बैटरी इसे चार घंटे का बैकअप देगी. इसे बनाने में इन छात्रों के करीब 40 हज़ार रुपये और छह महीने का समय लगा. टीम की दूसरी सदस्य नंदिनी ने बताया कि-

इसे बनाने का हमारा उद्देश्य दमकल विभाग और जनता दोनों की मदद करना है. आग लगने पर कई बार फायर ब्रिगेड की गाड़ी दूरी और जाम की वजह से देरी से पहुंचती हैं, ऐसे में ये ड्रोन उनसे पहले पहुंच सकता है और लोगों की जान बचा सकता है.
Source- Stabroeknews

अब ये टीम दमकल विभाग से मिलकर उन्हें इसका डेमो देने के लिए कार्य कर रही है. शहरी दुर्घटना के अलावा देश जंगल जलने के भी कई केस सामने आए हैं. ISRO के सैटेलाइट डाटा के अनुसार 2006 से 2015 तक जंगलों में आग के 2,28,667 केस रिपोर्ट हुए हैं. ऐसे में ये इनोवेशन समाज के लिए काफ़ी लाभदायक है.

Source- Bangalore Mirror