बॉलीवुड (Bollywood) का इतिहास 100 साल से भी अधिक पुराना है. बॉलीवुड में अब तक 'मुग़ल ए आज़ाम', 'मदर इंडिया', 'मेरा नाम जोकर', 'प्यासा', 'शोले', 'लगान', 'दिल वाले दुल्हनिया ले जायेंगे', 'दंगल' और 'बाहुबली' जैसी कई बेहतरीन फ़िल्में बन चुकी हैं. इन फ़िल्मों ने न केवल भारत, बल्कि दुनियभर में देश का नाम रौशन किया है. बॉलीवुड में रोमांटिक, कॉमेडी, ड्रामा, एक्शन, थ्रिलर और सस्पेंस से भरपूर कई फ़िल्में बन चुकी हैं. लेकिन दर्शकों को हमेशा से ही सस्पेंस फ़िल्में काफ़ी पसंद आती हैं.  

ये भी पढ़ें- बॉलीवुड की वो 15 फ़िल्में जो फ़्लॉप थी, लेकिन उनका म्यूज़िक सुपरहिट था

Bollywood Films

आज हम आपके लिए बॉलीवुड की 11 ऐसी फ़िल्में लेकर आये हैं, जिनके क्लाइमैक्स ने दर्शकों को हैरान कर दिया था-

1- गुप्त (1997) 

काजोल, बॉबी देओल और मनीषा कोइराला स्टारर 'गुप्त' 90's की सबसे बेहतरीन सस्पेंस फ़िल्मों में से एक है. इस फ़िल्म में काजोल ने अपनी ज़बरदस्त एक्टिंग से समां बांध दिया था. फ़िल्म के क्लाइमैक्स में जाकर पता चलता है कि असली कातिल ईशा (काजोल) हैं.

Gupt (गुप्त)
Source: bollywoodtabloid

2- अंधाधुन (2018) 

आयुष्मान खुराना, तब्बू और राधिका आप्टे स्टारर 'अंधाधुन' फ़िल्म ट्विस्ट और टर्न की वजह से दर्शकों को अंत तक बांधे रखने में कामयाब रही थी. श्रीराम राघवन निर्देशित इस फ़िल्म में आयुष्मान ने अंधे पियानो प्लेयर का किरदार निभाया था, लेकिन अंत में पता चलता है कि वो अंधे नहीं, बल्कि नाटक कर रहे होते हैं.

Andhadhun (अंधाधुन)
Source: browngirlmagazine

ये भी पढ़ें- बॉलीवुड की इन 29 फ़िल्मों का रिलीज़ होने का सपना, सपना ही रह गया 

3- कहानी (2012) 

साल 2012 में रिलीज़ हुई 'कहानी' विद्या बालन की शानदार एक्टिंग और ज़बरदस्त सस्पेंस की वजह से सुपरहिट रही थी. विद्या ने फ़िल्म में एक प्रेग्नेंट महिला का किरदार निभाया था, लेकिन अंत में दर्शकों के पैरों तले ज़मीन खिसक जाती है जब उन्हें पता चलता है कि वो प्रेग्नेंट होने का नाटक कर रही थीं.

Kahaani (कहानी)
Source: deviantart

4- दृश्यम (2015) 

साल 2015 में आई अजय देवगन, श्रेया सरन, तब्बू, इशिता दत्ता स्टार हिंदी फ़िल्म 'दृश्यम' मलयालम 'दृश्यम' की रीमेक थी. इस फ़िल्म का सस्पेंस सांसें थाम देना वाला था, जिसमें विजय (अजय देवगन) अपने परिवार को बचाने के लिए किसी भी हद तक जा सकता है.

Drishyam (दृश्यम )
Source: rajasthannews1

5- जॉनी गद्दार (2007) 

नील नितिन मुकेश की ये बेहतरीन फ़िल्म साल 2007 में रिलीज़ हुई थी. नील का ग्रे शेड किरदार दर्शक आज भी भूले नहीं हैं. सस्पेंस से भरपूर इस फ़िल्म की एंडिंग धमाकेदार थी. क्लाइमैक्स में दिखाया गया है कि नील नितिन की गोली लगने से मौत हो जाती है, लेकिन उन्हें गोली क्यों मारी जाती है यही तो सस्पेंस है?  

Johnny Gaddaar (जॉनी गद्दार)
Source: jiocinema

ये भी पढ़ें- मोहब्बतें से लेकर अग्निपथ तक बॉलीवुड की ये 15 फ़िल्में, हॉलीवुड की ब्लॉकबस्टर फ़िल्मों की कॉपी थीं

6- रेस (2008) 

सैफ़ अली ख़ान, अक्षय खन्ना, अनिल कपूर स्टारर फ़िल्म 'रेस' साल 2008 में रिलीज़ हुई थी. इस फ़िल्म में भी ज़बरदस्त सस्पेंस था. 46 करोड़ रुपये के बजट में बनी इस फ़िल्म ने क़रीब 104 करोड़ रुपये की कमाई की थी.  

Race (रेस)
Source: 0redirc

7- कार्तिक कॉलिंग कार्तिक (2010) 

फ़रहान अख़्तर और दीपिका पादुकोण स्टारर फ़िल्म 'कार्तिक कॉलिंग कार्तिक' में भी ज़बरदस्त सस्पेंस था. इस फ़िल्म में कार्तिक (फ़रहान अख़्तर) कार्तिक सिज़ोफ्रेनिया नामक मानसिक रोग का शिकार होता है. इस बीमारी में इंसान के दो रूप होते हैं, लेकिन उसे अपने दूसरे की कोई जानकारी नहीं होती. 

Kartik Calling Kartik (कार्तिक कॉलिंग कार्तिक)
Source: apunkachoice

8- स्पेशल 26 (2013) 

नीरज पांडे द्वारा निर्देशित इस 'स्पेशल 26' में अक्षय कुमार, मनोज बाजपेयी, जिमी शेरगिल, अनुपम खेर और काजल अग्रवाल ने मुख्य भूमिकाएं निभाई थीं. फ़िल्म में एक नकली 'सीबीआई टीम' पुलिस अधिकारी रणवीर सिंह (जिमी शेरगिल) को अपने झांसे में रखकर दे दनादन छापे मारती है.

Special 26 (स्पेशल 26)
Source: filmykeeday

9- टेबल नंबर 21  

राजीव खंडेलवाल और परेश रावल स्टारर रैगिंग पर बनी ये फ़िल्म सस्पेंस से भरपूर थी. फ़िल्म में परेश रावल का बेटा रैगिंग की वजह से डिप्रेशन में आकर पागल हो जाता है. इसके बाद परेश, राजीव खंडेलवाल और उसके दोस्तों को सबक सीखने के लिए उन्हें एक मौत का गेम खिलाते हैं.  

Tabel Number 21 (टेबल नंबर 21)
Source: jiosaavn

ये भी पढ़ें- ये हैं बॉलीवुड की 9 सबसे ख़राब रीमेक फ़िल्में, जिन्होंने पैसा ही नहीं हमारा समय भी किया था बर्बाद

10- 3 इडियट  

आमिर ख़ान, करीना कपूर, माधवन और शरमन जोशी स्टारर '3 इडियट' हालांकि एक सस्पेंस थ्रिलर फ़िल्म नहीं थी, लेकिन अंत तक किसी को भी ये नहीं मालूम होता है कि रैंचो (आमिर ख़ान) ही असल में फुंसुक वांगडू हैं.  

3 Idiots
Source: desimartini

11- बाहुबली  

इस लिस्ट में 'बाहुबली' को हम भला कैसे भूल सकते हैं. साल 2015 में कटप्पा ने बाहुबली को क्यों मारा? एक नेशनल क़्वेश्चन बन गया था. आख़िरकार 2 साल इंतज़ार के बाद 'बाहुबली 2' देखने पर पता चला कि 'कटप्पा ने बाहुबली को क्यों मारा.

Bahubali
Source: planetbollywood

इसके अलावा और कौन सी फ़िल्में हैं जिनका सस्पेंस देखने लायक था? आप भी बताइये.

ये भी पढ़ें- 20 साल बेमिसाल: 21वीं सदी की वो बॉलीवुड फ़िल्में जिन्होंने बॉक्स ऑफ़िस पर की सबसे ज़्यादा कमाई