2020, साल नहीं बवाल रहा ये. पूरे साल दुःख ही दुःख रहा. दुआएं करते करते अब ये साल जा रहा है.  इस साल के जाने की ख़ुशी मनानी तो बनती है. अब क्योंकि सब दोस्तों से नहीं मिल सकते, साथ ने नए साल का स्वागत नहीं कर सकते मगर ऑनलाइन शार्ट फ़िल्में देख कर ही मज़े किये जा सकते हैं. 

1. कांदे पोहे

महाराष्ट्र में 'कांदे पोहे दा कार्यक्रम' का रिवाज होता है. जब एक लड़का पहली बार अरेंज मैरिज़ के लिए लड़की के घर जाता है तो कांदा पोहा परोसा जाता है. इसी के इर्द-गिर्द ये मज़ेदार शार्ट फ़िल्म घूमती है.

2. खुजली

इस फ़िल्म में एक बुजुर्ग दंपति एक पुरानी 'खुजली' को दूर करने का फैसला करते हैं जो मज़ेदार मोड़ ले लेता है. इसमें नीना गुप्ता और जैकी श्रॉफ की शानदार केमिस्ट्री देखने को मिलेगी.

3. सेकंड हैंड

जब एक कपल की ज़िन्दगी में  जब किसी 'तीसरे' की आहट होती है तो कैसा-कैसा मज़ाक सामने आता है ये इस फ़िल्म में दिखाया गया है. इसमें पारुल गुलाटी, अभिषेक बनर्जी और लक्ष्य कोचर ने अभिनय किया है.

ये फ़िल्म देखने के लिए यहां क्लिक करिये.

4. रिडिक्यूलस 

शार्ट फ़िल्म का हीरो मोहन एक एक्टर बनना चाहता है मगर 'एक्स्ट्रा' ही बना रह जाता है. एक्टर बनने के लिए वो क्या क्या पापड़ बेचता है वो मज़ेदार है.

Source: bookmyshow

ये फ़िल्म देखने के लिए यहां क्लिक करिये.

5. टिंडे

ऑनलाइन डेटिंग पर आधारित है ये शार्ट फ़िल्म. इसमें आपको अदा शर्मा, राजेश शर्मा और अश्विनी कालसेकर मज़ेदार भूमिकाओं में दिखेंगे.

6. फ़ूड फॉर थॉट

यह फ़िल्म एक रूढ़िवादी परिवार के इर्द-गिर्द घूमती है जो एक लड़की देखने आये हैं.

ये फ़िल्म देखने के लिए यहां क्लिक करिये.

7. स्ट्रॉबेरी शेक

इस शॉर्ट फ़िल्म में आपको ह्रुता दुर्गुले और सुमीत राघवन दिखाई देंगे. ये फ़िल्म एक सिंगल फादर के चारो ओर घूमती है जो अपनी बेटी को अपना दोस्त मानते हैं. 

ये फ़िल्म देखने के लिए यहां क्लिक करिये.

8. मनोहर जी की निम्मी 

मनोहरजी की निम्मी एक हल्की-फुल्की शॉर्ट कॉमेडी फ़िल्म है जो एक पति-पत्नी के सुन्दर रिश्ते को दिखाता है. इस फ़िल्म में आपको  सीमा पाहवा, दाऊ दयाल, प्रियंका लुल्ला, सिकंदर खान और शालिनी चौहान जैसे एक्टर्स दिखाई देंगे.

9. इश्क़ की गुगली

इस फ़िल्म की कहानी दो ऐसे लोगों की है जो एक रोड ट्रिप पर दोस्त बनें हैं. गड़बड़ तक होती है जब एक को मालूम चलता है कि दूसरे के दिमाग़ में एक मर्डर प्लान चल रहा है. कहानी यहीं से मज़ेदार मोड़ लेती है.

10. सोने भी दो यारों 

सोने भी दो यारों काफी मज़ेदार है. एक लड़के के घर उसके दोस्त के मामा जी आते हैं  खर्राटों से उसकी नींद उड़ जाती है. सोने के लिए वो लड़का अलग-अलग जुगाड़ करता है.  

ये फ़िल्म देखने के लिए यहां क्लिक करिये.

11. फटाफट

इस फ़िल्म के लीड में हैं मिर्ज़ापुर के मुन्ना भैया. वो एक कॉल सेंटर में काम करते हैं और अपनी प्रोफ़ेशनल और पर्सनल लाइफ़ के बीच संघर्ष कर रहे हैं. जब वह एकदम टूटने वाला होता है तो बस में एक लोकल सेल्समैन से उसकी मुलाकात होती है. उसके बाद उसका जीवन बदल जाता है.

ये फ़िल्म देखने के लिए यहां क्लिक करिये.

12. बाउमा

यह फ़िल्म 1960 के दशक में बनी है. ये एक कॉमेडी थ्रिलर है. एक ऐसे कपल के इर्द-गिर्द घूमती है और अचानक से पति की मौत हो जाती है और पत्नी को कुछ भी समझ नहीं आता.