Ramayan (1987) Dialogues: रामानंद सागर की रामायण 1987 में दूरदर्शन पर प्रसारित हुई थी. रामायण के हर किरदार से लोगों की वो श्रद्धा जुड़ी जो भगवान से जुड़ती है. महाकाव्य रामायण को रामानंद सागर ने छोटे पर्दे पर ऐसा उतारा कि इतने दशकों बाद भी दर्शक उस रामायण को भूल नहीं पाए हैं. किवदंती तो ये भी है कि, जब रामायण टीवी पर आती थी तो लोग टीवी के सामने अगरबत्ती लेकर और हाथ जोड़कर बैठ जाते थे. इतना ही नहीं जिस कमरे में रामायण चलती थी वहां कोई भी चप्पल पहनकर नहीं जाता था.

Ramayan 1987
Image Source: media-amazon

1987 में आई रामायण (Ramayan (1987) Dialogues) के आधार पर बनी फ़िल्म आदिपुरुष को 16 जून को रिलीज़ किया गया था मगर उसमें रामायण का अंश भी देखने को नहीं मिला. स्टारकास्ट से लेकर डायलॉग तक सबने आम लोगों की धार्मिक भावनाओं को आहत किया. दर्शकों ने तो डायलॉग्स को छपरी तक कह दिया.

इसीलिए हम आपके लिए रामानंद सागर की पवित्र रामायण के कुछ डायलॉग्स लेकर आए हैं, जो आपको आदिपुरुष के टॉर्चर से बहुत बड़ी राहत दिलाएंगे.

ये भी पढ़ें: भ्राताश्री! किस युग के हैं ये डायलॉग? आदिपुरुष के इन 8 Cringe डायलॉग्स ने बना दिया ‘रामायण’ का मज़ाक

Ramayan (1987) Dialogues
Ramayan (1987) Dialogues
Ramayan (1987) Dialogues
Ramayan (1987) Dialogues
Ramayan (1987) Dialogues
Ramayan (1987) Dialogues
Ramayan (1987) Dialogues
Ramayan (1987) Dialogues
Ramayan (1987) Dialogues
Ramayan (1987) Dialogues
Ramayan (1987) Dialogues
Ramayan (1987) Dialogues
Ramayan (1987) Dialogues
Ramayan (1987) Dialogues
Ramayan (1987) Dialogues

ये भी पढ़ें: ‘आदिपुरुष’ की कहानी पर भड़के रामानंद सागर के बेटे, जानिए 1987 की रामायण के बाकी एक्टर्स का रिएक्शन

बोलो, जय श्री राम!

Designed By: Sawan Kumari