Bollywood Movies: 2000 के दशक की बहुत सी बॉलीवुड फ़िल्में हमें आज तक याद हैं. मगर इन फ़िल्मों में कुछ ऐसा था जो शायद हमें उस समय समझ नहीं आया लेकिन बड़े होने पर हमें वो समझ आए.

इन मूवीज़ में घुमा फिराकर गंदी बातें की गई थीं जिसे हम समझ नही पाए और ये सीन आने पर हमारे पैरेंट्स सबसे नज़रें चुराते दिखे. चलिए आज आपको 2000 के दशक की कुछ ऐसी ही फ़िल्मों के बारे में बता देते हैं जिनमें काफ़ी डबल मीनिंग बातें थीं. 

1. मुझसे शादी करोगी (Mujhse Shaadi Karogi)


इस फ़िल्म में जब सलमान ख़ान अपनी लवर की मां से माफ़ी मांगने जाते हैं तो उन दोनों के बीच कुछ ऐसी बातें होती हैं जिनका डबल मीनिंग होता है. इसी बीच कर्नल, अक्षय और प्रियंका चोपड़ा आ जाती हैं, तो सभी सलमान ख़ान को दुश्शासन यानी ग़लत समझने लगते हैं.

ये भी पढ़ें: ये हैं वो 7 बॉलीवुड एक्टर्स, जिन्होंने एक ही नाम वाली दो-दो फ़िल्मों में की है एक्टिंग

 2. इश्क विश्क (Ishq Vishk)


2000 के किड्स को याद होगा जब बचपन में केबल पर सारे चैनल्स आते थे. उस समय कोई-कोई केबल ऑपरेटर रात में वो वाली फ़िल्में चलाता था. इसे देखने के लिए कुछ लोग रात में चोरी-छुपे टीवी देखते थे. ऐसा ही कुछ शाहिद कपूर की इस मूवी में होता है. इसमें वो अपने पिता से छुपकर ये चैनल देखने आते हैं, लेकिन रात में उसके डैड भी जाग जाते हैं.

3. कल हो ना हो (Kal Ho Na Ho)

शाहरुख़ ख़ान की इस सुपरहिट मूवी में उन्हें सैफ़ अली ख़ान का बेस्ट फ़्रेंड बताया गया था. लेकिन अमन यानी सैफ़ के घर में काम करने वाली बाई कांता उनकी दोस्ती का कुछ और ही मतलब निकालती थी. जब भी वो उन्हें साथ देखती तो वो सोचती थी की उन दोनों का कोई सेक्सुअल रिलेशन है.

Bollywood Movies

4. राजा (Raja)

संजय कपूर और माधुरी दीक्षित ने इस फ़िल्म में लीड रोल निभाया था जो लवर भी थे. इसमें एक सीन में संजय कार का पहिया बदल रहे होते हैं. तब माधुरी उन्हें मोटिवेट करने के लिए कमॉन राजा कहकर कमेंट्री सी करती हैं. सीन भले ही कुछ हो लेकिन इससे सुनने के बाद आपको भी ये डबल मीनिंग लगेगा.

5. जब वी मेट (Jab We Met)

शाहिद कपूर और करीना कपूर की ये सुपरहिट मूवी है जिसे आज भी देखकर बड़ा मज़ा आता है. इसमें एक सीन है जब शाहिद और करीना रतलाम के एक होटल में कमरा किराए पर लेने जाते हैं. यहां रिसेप्शनिस्ट और शाहिद के बीच बहुत सारी डबल मीनिंग बातें होती हैं. होटल डिसेंट वाला ये सीन आपको भी याद होगा.

6. अय्या (Aiyya)

रानी मुखर्जी और पृथ्वीराज की इस मूवी में एक गाना है जो पूरा ही डबल मीनिंग है. गाना है ‘ड्रीमम वेकपम…’ इस अब देख आप भी ख़ूब हंसते होंगे.

7. कुछ कुछ होता है (Kuch Kuch Hota Hai)

कुछ कुछ होता है कि मिस ब्रिगेंजा तो आपको याद ही होंगी उनपर लट्टू होते हैं अनुपम खेर यानी मिस्टर मल्होत्रा. ये दोनों जब भी साथ में आते थे तो बहुत ही मज़ेदार बातें होती थीं.

8. मस्ती (Masti)

इस फ़िल्म में बहुत सारे डबल मीनिंग वाले सीन्स थे. इसमें एक सीन है आफताब शिवदासानी का, जिसमें वो एक लड़की से मिलने उसके घर जाते हैं. यहां दूध के विषय में बात होती है, जो बहुत ही डबल मीनिंग है.

9. क्या कूल हैं हम (Kya Kool Hai Hum)

तुषार कपूर की इस फ़िल्म में डबल मीनिंग वाले कई सीन है. तुषार और रितेश देशमुख के साथ भी बहुत सारी ऐसी ही बातें होती हैं. इसे तो उस समय की अडल्ट कॉमेडी भी बताया जाता है.

10. मैंने प्यार क्यों किया (Maine Pyaar Kyun Kiya)

इस फ़िल्म में राजपाल यादव फ़िल्म की एक्ट्रेस सुष्मिता सेन पर फिदा थे. वो उनसे इलाज करवाने के लिए फर्ज़ी मरीज भी बन गए थे. फ़िल्म में एक सीन है जिसमें वो उनसे बहुत सारी डबल मीनिंग बातें करते दिखाई देते हैं.

इनमें से कुछ फ़िल्में तो आज भी लोग अपने मम्मी-पापा के साथ देखने से कतराते हैं.