रणवीर-आलिया स्टारर फ़िल्म 'गली बॉय' बॉक्स ऑफ़िस पर अच्छा कलेक्शन कर रही है. इन दोनों की शानदार एक्टिंग के दम पर ये फ़िल्म अब तक 129 करोड़ का कारोबार कर चुकी है. 'गली बॉय' फ़िल्म में एक और एक्टर ने अपनी शानदार एक्टिंग से हर किसी का दिल जीता है और वो हैं सिद्धांत चतुर्वेदी.

Source: timesnownews

सिद्धांत ने फ़िल्म में 'MC शेर' का किरदार निभाया है. दर्शकों ने उनकी एक्टिंग को ख़ूब सराहा. शायद ही किसी ने एक नए कलाकार से इतनी शानदार एक्टिंग की उम्मीद की होगी, लेकिन सिद्धांत फ़िल्म में कई जगह रणवीर-आलिया पर भी भारी पड़े हैं.

Source: mid-day

फ़िल्म देखने के बाद हर कोई सिद्धांत चतुर्वेदी के बारे में जानना चाहता है. तो बता दें कि उन्होंने टीवी शो 'Life Sahi Hai' से अपने करियर की शुरुआत की थी. इसके बाद उन्हें Amazon प्राइम की वेब सीरीज़ 'Inside Edge' से असल पहचान मिली.

Source: freepressjournal

सिद्धांत एक्टिंग की फ़ील्ड में कैसे आये इसके पीछे की कहानी भी बेहद दिलचस्प है. 'Humans of Bombay' के ज़रिये उन्होंने अपनी कई दिलचस्प बातें शेयर की हैं.

Source: news18

दरअसल, मेरे पिता हमेशा से ही बॉलीवुड फ़िल्मों के शौक़ीन रहे हैं. वो मुझे हर शुक्रवार को फ़िल्म दिखाने ले जाया करते थे. जब मैं छोटा था तो पापा टेप पर सलमान ख़ान के गाने सुनते थे और मैं उन गानों पर थिरकता था. बस यहीं से फ़िल्मों के प्रति मेरा प्यार शुरू हो गया.

Source: ndtv.com

सिर्फ़ एक्टिंग ही नहीं मुझे लिखने का भी बेहद शौक है. मुझे आज भी याद है मैंने जो पहली कविता लिखी थी वो 9वीं क्लास की एक लड़की के लिए थी, लेकिन उसने मेरा प्यार ठुकरा दिया. इसके बाद भी मैंने लिखना जारी रखा. मेरे पिता मुझे चार्टेड अकाउंटेंट बनना चाहते थे, क्योंकि वो ख़ुद भी सीए हैं.

Source: filmibeat

12वीं तक मैंने सीए बनने के लिए ख़ूब पढ़ाई की. उस वक़्त तक एक्टर बनने के बारे में इतना सोचा नहीं था. एक्टिंग का कीड़ा तब लगा जब मैंने कॉलेज जाना शुरू किया. इसके बाद मैं मीठीबाई कॉलेज की नाटक टीम में शामिल हो गया. इस दौरान स्टेज पर रहना मुझे बेहद पसंद आने लगा. कुछ समय के लिए मुझे सीए की परीक्षा के लिए एक्टिंग छोड़नी पड़ी. कॉलेज और सीए क्लासेज़ के दौरान मैं सही से सो भी नहीं पाता था.

Source: filmibeat

मुझे ख़ुद पर भरोसा था कि मैं अपनी पढ़ाई अच्छे से पूरी कर लूंगा, लेकिन ये सब मेरे लिए बेहद मुश्किल था. बावजूद इसके मैंने अपने एग्ज़ाम अच्छे से पूरे किये और मैं रैंक से सिर्फ़ 15 अंक दूर था. अगर आज आप मुझसे पूछते कि मेरी सबसे बड़ी उपलब्धि क्या है? तो वो है सीए एग्ज़ाम पास करना, जिसे मैं करना नहीं चाहता था. एक्टर बनना तो मेरा सपना था और मैं जनता था एक न एक दिन मैं इसे हासिल कर ही लूंगा.

Source: missmalini

सीए फ़ाइनल से पहले मैंने अपने पिता से अपनी एक्टिंग पर ध्यान केंद्रित करने के लिए कुछ समय मांगा. इसके बाद मैंने अपने दोस्तों के साथ कई ऑडिशन दिए. जब मैं अपना पहला ऑडिशन दे रहा था तो मुझसे कहा गया कि पहले कैमरा फ़ेस करना सीखकर आओ फिर ऑडिशन देना. मुझे हर जगह से रिजेक्शन ही मिल रहा था.

Source: missmalini

इस दौरान मेरे लिए असली MC शेर थे मेरे पिता, उन्होंने मुझसे धैर्य बनाये रखने को कहा, ख़ुद को कभी भी कमतर नहीं आंकना चाहिए. उन्होंने मेरी पीठ थपथपाते हुए कहा हमेशा अपने सपनों का पीछा करना सीखो. मेरे पिता ने मुझसे कहा कि वो मुझे खाने और रहने को छत देंगे ताकि मैं वो कर सकूं जो मैं करना चाहता हूं. मैं जो करना चाहता था उन्होंने मुझे वो सब करने की पूरी आज़ादी दी.

Source: mensxp

4 साल के कड़े संघर्ष के बाद मैंने अधिक से अधिक लोगों से संपर्क बनाना शुरू किया. इसी बीच मुझे 'Inside Edge' में काम करने का ऑफ़र मिला. वो लोग जो चाहते थे मैंने वो करके दिखाया. 'Inside Edge' की सेक्सेस पार्टी के दौरान मेरी मुलाक़ात जोया अख़्तर से हुई. इस दौरान मैंने उनके साथ 'Gallan Goodiyaan' गाने पर ख़ूब डांस किया.

Source: hamaraphotos

इसके कुछ दिन बाद जोया ने मुझे 'गली बॉय' के लिए ऑडिशन देने के लिए बुलाया. बस फिर क्या था इस फ़िल्म ने मेरी ज़िंदगी बदलकर रख दी.

Source: spotboye

फ़िल्म रिलीज़ होने के बाद मुझे अमिताभ बच्चन सर का एक पत्र भी मिला और मैंने इसे अपने पिता को सौंप दिया. ये मेरी ज़िंदगी का सबसे सुखद पल था. क्योंकि अमिताभ बच्चन के जिस सबसे बड़े फ़ैन को मैं जनता हूं वो मेरे पापा हैं.

शेर के नाम से पहचाने जाने के बाद अब मैं न थकने वाला हूं और न ही रुकने वाला. मैं अब सही मायने में दहाड़ सकता हूं. 'भाग भाग भाग आया शेर आया शेर'!