बॉलीवुड (Bollywood) में ऐसी सैकड़ों फ़िल्में बन चुकी हैं जो अपने कंट्रोवर्शियल सब्जेक्ट के चलते कभी रिलीज़ ही नहीं हो पाई. इनमें से कुछ फ़िल्में ऐसी भी थीं जो कॉपीराइट उल्लंघन के चलते रिलीज़ नहीं हो पाई. ऐसी ही एक फ़िल्म साल 1957 में भी बनी थी. किशोर कुमार, शकीला और हेलेन स्टारर बेगुनाह फ़िल्म रिलीज़ तो हुई, लेकिन बाद में इसे बैन कर दिया गया था. इस फ़िल्म के बैन के पीछे एक ऐसा कारण था जिस पर कोर्ट ने एक अनोखा फ़ैसला सुनाया था. 

ये भी पढ़ें: क़िस्सा: आनंद बख़्शी का वो गाना जिसे सुनने के बाद एक शख़्स ने बदल लिया था सुसाइड का फ़ैसला

आज हम आपके सामने बेगुनाह फ़िल्म का ज़िक्र इसलिए कर रहे हैं क्योंकि ये भारत की पहली और एकमात्र ऐसी फ़िल्म है जिसे रिलीज़ के 10 दिन बाद कोर्ट ने इसके सारे प्रिंट नष्ट करने के आदेश दिए थे. 

दरअसल, निर्देशक नरेंद्र सूरी की इस फ़िल्म पर हॉलीवुड (Hollywood) की ‘पैरामाउंट पिक्चर्स’ ने कॉपी करने का आरोप लगाया था. आरोप में कहा गया था कि ‘बेगुनाह’ फ़िल्म की कहानी सन 1954 में रिलीज़ हुई उनकी हॉलीवुड फ़िल्म ‘Knock on Wood’ से कॉपी है. पैरामाउंट पिक्चर्स ने इसके ख़िलाफ़ बॉम्बे हाईकोर्ट में याचिका दाख़िल की थी और ये केस जीता भी था. इस दौरान कोर्ट ने फ़िल्म के सभी प्रिंट नष्ट करने के आदेश दिए थे.

imdb

बॉम्बे हाईकोर्ट के आदेश के बाद इस फ़िल्म के सभी प्रिंट नष्ट कर दिये गये थे. इसलिए फ़िल्म का कोई भी प्रिंट अब मौजूद नहीं है. हालांकि, इस फ़िल्म में संगीतकार जयकिशन पर फ़िल्माया गया और मुकेश का गाया ‘ऐ प्यारे दिल बेज़ुबान’ गाना काफ़ी लोकप्रिय हुआ था. इसके अलावा किशोर कुमार का गाया ‘आज ना जाने पागल मनवा काहे घबराये’ और मन्ना डे व लता मंगेशकर का गाया गाना ‘दिल अलबेला प्यार का मौसम’ भी काफ़ी हिट हुये थे. 

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो नेशनल फ़िल्म आर्काइव ऑफ़ इंडिया (NFAI) को अब अब सालों बाद ‘बेगुनाह’ की रील मिली है. 65 साल पहले बॉम्बे हाईकोर्ट ने इस फ़िल्म के सभी प्रिंट्स को रद्द करने के आदेश दिये थे. ऐसे में इतने साल बाद इस फ़िल्म के प्रिंट्स मिलना काफ़ी चौंकाने वाली बात है. कुछ समय पहले ‘बेगुनाह’ फ़िल्म की एक क्लिप सोशल मीडिया पर भी वायरल हुई थी जिसमें एक्ट्रेस शकीला डांस करती नज़र आ रही थीं और म्यूजिक कंपोजर जयकिशन पियानो बजाते दिख रहे हैं.

imdb

NFAI के डायरेक्‍टर प्रकाश ने न्‍यूज़ एजेंसी PTI से बातचीत में बताया कि, कोर्ट के आदेश के बाद फ़िल्म के सभी प्रिंट नष्ट कर दिए थे, लेकिन सिनेमा प्रेमियों के पास अभी भी ये प्रिंट्स मौजूद हैं. कई लोग वर्षों से रील को ढूंढ रहे थे. चूंकि ये हमारे पास नहीं थी तो हम भी सक्रियता से इसकी खोज करने में लगे रहे और ये खोज का ही चमत्कार है. म्‍यूजिक कंपोज़र शंकर-जयकिशन के फ़ैंस लंबे समय से फ़ुटेज की तलाश कर रहे थे क्‍योंकि यही एक फ़िल्म है जिसमें जयकिशन का बड़ा रोल था.

imdb

PTI से बातचीत में प्रकाश ने आगे बताया कि, हमारे पास दो फ़ेज़ में ‘बेगुनाह’ फ़िल्म की 16MM की दो रील्‍स हैं, जो क़रीब 60 से 70 मिनट की हैं. इनमें से दूसरी रील में ‘ऐ प्‍यासे दिल बेज़ुबां’ गाना है, जिसमें जयकिशन, शकीला दिख रहे हैं. गाने को मुकेश ने आवाज़ दी है. रील की कंडीशन अच्छी नहीं है, लेकिन गाना ठीक चल रहा है.

ये भी पढ़ें: क़िस्सा: जब अमिताभ बच्चन हो गए थे दिवालिया, कर्ज़ ना चुकाने के लिए सुननी पड़ीं थी गालियां