1950-1960 का दौर रेडियो का दौर था. ये दोनों चीज़ें ही लोगों के मनोरंजन का साधन भी थीं. इसलिये लोग घर में कुछ रखें न रखें रेडियो ज़रूर रखते थे. ये वो समय था जब लोगों के मनोरंजन के लिये रेडियो पर कई प्रोग्राम आते थे. इन्हीं प्रोग्राम में से एशिया का लोकप्रिय कार्यक्रम 'बिनाका गीतमाला' भी था. शो के होस्ट अमीन सयानी थे, जिन्होंने अपनी मनमोहक आवाज़ से सबका दिल जीत लिया था.

Geetmala
Source: youtube

'बिनाका गीतमाला' में अमीन सयानी लोगों की ख़्वाहिश पूरी करते हुए शो में बेहतरीन गाने चलाते. यही वजह थी कि रात 8 बजे से लेकर 9 बजे तक लोगों के कान रेडियो से चिपके होते थे. अमीन सयानी के इस शो का पहला एपसोड 1952 में प्रसारित हुआ था. आपको ये जान कर हैरानी होगी कि शो के पहले एपिसोड ने ही श्रोताओं की ख़ूब वाहवाही लूटी. जिसके चलते रेडियो का लोकप्रिय शो बन गया.

Ameen Sayani
Source: wikidata

शो की बढ़ती लोकप्रियता और श्रोताओं की भारी डिमांड पर इसे काउंट डाउन शो बना दिया गया. लोग अपना पसंदीदा गाना सुनने के लिये वोट करते और उसी के आधार पर शो पर गाने चलाये जाते. हांलाकि, बाद में जब ये जानकारी मिली कि कई श्रोता अपना पसंदीदा गीत सुनने के लिये फ़र्ज़ी वोटिंग करते हैं, तब इस शो के इस सेगमेंट को ख़त्म कर दिया गया.

GeetMala Show
Source: Ht

'बिनाका गीतमाला' की कहानी

1951 में जब रेडियो के लिये मुंबई में Sponsor प्रोग्राम रिकॉर्ड होने शुरू हुए, तो 'बिनाका गीतमाला' के लिये फ़्रेश और यंग होस्ट की खोज की जा रही थी. वो होस्ट जो बिनाका टूथपेस्ट बनाने वाली सिबा कंपनी के लिये आधे घंटे का एक Sponsored कार्यक्रम लिखे भी, प्रोड्यूस भी करे, बोले भी. इसके अलावा सुनने वालों के पत्र छाटें और जांचे. कंपनी की तरफ़ से ये छोटा सा प्रयोग किया जा रहा था, जिसके लिये अमीन सयानी को चुना गया. अमीन सयानी निर्माताओं के इस प्रयोग पर ख़रे उतरे और एशियाभर में अपनी आवाज़ के ज़रिये लोकप्रियता हासिल की.

RJ
Source: cybernag

हांलाकि, शो के प्रसारण के 39 साल बाद टीवी पर भी काउंट डाउन कार्यक्रमों का चलन बढ़ गया, जिससे लोग उसकी ओर ज़्यादा आकर्षित होने लगे. इसके बावजूद ये शो 42 साल तक चला और बाद में इसमें लोगों की कम दिलचस्पी को देखते हुए इसे बंद कर दिया गया.

ये शो भले ही बंद हो गया, पर अमीन सयानी के भाई और बहनों बोलने का अंदाज़ आज भी कानों में गूंजता हैं.

Entertainment के और आर्टिकल पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.