पॉपुलर रॉक बैंड (Rock Band) Strings ने 33 साल बाद, बैंड को ख़त्म करने का निर्णय लिया है. पाकिस्तान के इस मशहूर बैंड ने 90s के बच्चों का बचपन जुड़ा था. Strings ने सोशल मीडिया पर हमेशा के लिये अपना सफ़र ख़त्म होने की जानकारी दी. पोस्ट में बैंड के सबसे पुराने सदस्यों ने ये बात साफ़ कर दी कि दोनों के बीच सबकुछ ठीक है और दोनों का रिश्ता बेहद गहरा है. 

1988 में Strings की शुरुआत, बिलाल मक़सूद, फ़ैसल कपाड़िया, रफ़िक़ वाज़िर अली और करीम बशीर भोई ने की थी. कॉलेज के फ़ेयरवेल पार्टी (Farewell Party) में ये बैंड बनाया गया. 

Source: Pakistan Defence

अपने सफ़र में इस बैंड ने बहुत सारे उतार-चढ़ाव भी देखे लेकिन पाकिस्तान और भारत से इस बैंड को बहुत सारा प्यार मिला. सबसे पहले ये बैंड 1992 में टूटा लेकिन बैंड के 2 मुख्य सदस्य, बिलाल मक़सूद और फ़ैसल कपाड़िया 1999 में दोबारा एक गाने के साथ लौटे. गुज़रते वक़्त के साथ Strings में और भी सदस्य जुड़े.

Source: Tribune

2000 के शुरुआत में भारतीय युवा इस बैंड के ज़बरदस्त फ़ैन बना. 'दूर', 'ना जाने क्यों', 'मेरा बिछड़ा यार', 'धानी', 'ये है मेरी कहानी' जैसे गानों के साथ ही भारत के हर 90s Kid का बचपन बीता है. Strings ने 'ज़िन्दा', 'Shootout At Lokhandwala' जैसी फ़िल्मों के लिये गाने बनाये. Strings के वीडियोज़ में संजय दत्त (Sanjay Dutt) और जॉन अब्राहम (John Abraham) भी नज़र आ चुके हैं.   

2019 में इस बैंड का एल्बम Thirty रिलीज़ हुआ.  

इस ख़बर को सुनकर फ़ैन्स रोआंसे हो गये-  

इस बैंड को कुछ गाने, जिन्हें हम सुनते थे, सुनते हैं और सुनते रहेंगे-

1. ना जाने क्यों?

2. दूर

3. मेरा बिछड़ा यार

4. धानी

5. ये है मेरी कहानी

6. सोनिये

7. छाई छाई 

8. आखिरी अलविदा

दोनों देशों के बीच तमाम तक़रारों के बीच, संगीत ही एक ऐसा ज़रिया है जो दोनों देशों के लोगों को जोड़ता है. Thank You Strings!