कई फ़िल्मों के फ़्रेम होते हैं जो हमारे ज़ेहन में हमेशा के लिए बैठ जाते हैं. उन्हें देखते ही हमें उस फ़िल्म की याद आ जाती है. इन फ़्रेम्स को बनाने और इन्हें तलाश करने में निर्देशकों का बहुत दिमाग़ और समय ख़र्च होता है. चलिए एक नज़र भारतीय सिनेमा की फ़िल्मों के कुछ ऐसे ही फ़्रेम्स पर डाल लेते हैं, जो हमेशा-हमेशा के लिए यादगार बन गए.

1. तमाशा  (2015)

Source: filmcompanion

इमतियाज़ अली की इस मूवी में वैसे तो कई शानदार फ़्रेम थे. मगर ऊपर दिखाया गया फ़्रेम फ़िल्म के कैरेक्टर वेद की व्यथा को पूरी तरह से दर्शाता है. ये बताता है कि कैसे वेद अपने काम और सपने के बीच जद्दोजहद कर रहा है. कैसे उस कंडीशन से जूझ रहा है.

2. सैराट (2016)

Source: filmcompanion

सैराट मूवी के इस सीन में एक्टर्स के पीछे धधकती आग हमारी जाति व्यवस्था कि ओर इशारा कर रही है. नायक-नायिका इससे बचकर शहर जाना चाहते हैं, जहां इस सबके मायने बहुत कम होते हैं या फिर विरले ही देखने को मिलते हैं.

3. गली बॉय (2019)

Source: filmcompanion

इस मूवी का कैरेक्टर मुराद अली एक रैपर बनाना चाहता, मगर उसे मजबूरन एक ड्राइवर की नौकरी करनी पड़ती है. मूवी के इस फ़्रेम में वो अपने मालिक की कार में बैठा है जिस पर लाइटिंग के लिए लगाए गए बल्ब की छवि दिख रही है. इससे ऐसा प्रतीत हो रहा है जैसे वो भी एक स्टार बन गया है. इसमें उसके भविष्य की झलक है.

4. डेढ़ इश्किया (2014)

Source: filmcompanion

फ़िल्म के किरदार खालूजान और बब्बन ख़ुद को यहां ठगा हुआ महसूस करते हैं. इसे दिखाने के लिए इस फ़्रेम को गढ़ा गया है. यहां बेगम पारा और मुनिया दोनों मिल जाते हैं. फ़्रेम में दोनों के मिलन की परछाई के सामने खालूजान और बब्बन बौने नज़र आते हैं.

5. किला (2014)

Source: filmcompanion

अविनाश अरुण की इस मूवी में कोंकण के समुद्री तटों के भव्य फ़्रेम देखने को मिलते हैं. ऊपर दिखाए गए फ़्रेम में मूवी का किरदार ख़ुद के अकेलेपन को एक किले की खिड़की से टटोलते हुए नज़र आ रहा है. यहां वो दूसरों के बिना काफ़ी रिलैक्स फ़ील करता दिखाई दे रहा है.

6. Cat Sticks (2019)

Source: filmcompanion

रोनी सेन की इस मूवी का फ़्रेम लाजवाब है. इसमें एक खंडर, स्मोक और परछाई की मदद से एक रहस्य पूर्ण फ़्रेम क्रिएट किया गया है. ये देखने में काफ़ी डरावना लगता है.

7. Kadal (2013)

Source: filmcompanion

इस मूवी में नायक अपराध के दलदल में धंसता चला जाता है. जैसे-जैसे वो आपराधिक गतिविधियों में लिप्त होता है, वैसे-वैसे उसके हाथ ख़ून से रंगने लगते हैं. ये उसकी स्थिति को ठीक से दर्शाता है.   

8. Maheshinte Prathikaram (2016)

Source: filmcompanion

मलयाली लोगों की लाइफ़ के दर्शन इस फ़्रेम में देखने को मिलते हैं. इसमें किरदार की चप्पल, दो फल और धुला हुआ अंडर वेयर दिख रहा है. उसकी ये चप्पलें उसे याद दिलाती हैं कि उसका बदला अभी पूरा नहीं हुआ है.  

9. Angamaly Diaries (2017)

Source: filmcompanion

इस फ़्रेम में एक डेड बॉडी दिख रही है, जो अपने कॉफ़िन में भी फ़िट नहीं हो पा रही है. उसके हाथ क्रॉस जैसे दिख रहे हैं. उसके पास खड़ी औरत उसकी रियल वाइफ़ भी नहीं है. ये सभी एक फ़नी दृश्य क्रिएट कर रहे हैं.

10. Asha Jaoar Majhe (2014)

Source: filmcompanion

आदित्य सेन गुप्ता की ये फ़िल्म एक ऐसे कपल की स्टोरी बताती है जो काम की अलग-अलग शिफ़्ट होने के कारण बहुत कम ही मिल पाते हैं. इस मूवी के फ़्रेम में जो ये चांद या फिर किसी ग्रह जैसी जो छवि दिख रही है असल में ये एक पैन में डाले गए सरसों के तेल की फ़ुटेज है. इसे फ़िश करी बनाने के लिए पैन में डाला गया है. 

ये सभी फ़्रेम बताते हैं कि जीवन के हर पल को हमारे डायरेक्टर अपनी पारखी नज़र के माध्यम से लोगों के सामने प्रस्तुत करने में कितने माहिर हैं.

Entertainment के और आर्टिकल पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.