बॉलीवुड (Bollywood) में पिछले कुछ सालों में बायोपिक फ़िल्मों का चलन काफ़ी ज़ोरों पर है. बॉलीवुड में अब क्रांतिकारियों, खिलाड़ियों और अपने-अपने क्षेत्रों में सफ़लता के झंडे गाड़ने वाले हस्तियों की ज़िंदगी पर फ़िल्में बन चुकी हैं. मिल्खा सिंह से लेकर साइना नेहवाल जैसे कई बड़े खिलाड़ियों की बायोपिक भी बन चुकी है. लेकिन बॉलीवुड फ़िल्म निर्माता इतने से ही ख़ुश नज़र नहीं आ रहे हैं. दर्शक जल्द ही कई ऐसे हस्तियों की बायोपिक भी देखने वाले हैं जिनके नाम उन्होंने सुने तक नहीं होंगे, लेकिन ये लोग अपने-अपने क्षेत्र के महारथी रह चुके हैं.

चलिए जानते हैं आगामी कुछ सालों में दर्शक किन-किन महान हस्तियों की बायोपिक देखने वाले हैं- 

1- रामेश्वर नाथ काव

रामेश्वर नाथ काव 'रिसर्च एंड एनालिसिस विंग' (रॉ) के पहले चीफ़ थे. रामेश्वर नाथ काव ही वो शख़्स थे, जिन्होंने पहली बार भारत में जासूसी की नींव रखी थी. उनकी 'रफ़ एंड टफ़' इमेज के चलते लोग उन्हें 'काव-बॉयज' के नाम से भी जानते थे. करण जौहर जल्द ही नितिन ए गोखले की किताब 'आर.एन काव: जेंटलमैन स्पाईमास्टर' पर आधारित एक जासूसी फ़िल्म बनाने जा रहे हैं.

Source: bhaskar

2- रेवती रॉय 

बॉलीवुड स्टार जॉन अब्राहम जल्द ही प्रोडक्शन हाउस के ज़रिए Social Entrepreneur रेवती रॉय के जीवन पर एक फ़िल्म बनाने जा रहे. रेवती रॉय हाइपरलोकल लॉजिस्टिक्स वेंचर 'Hey DeeDee' की संस्थापक हैं. इस संस्था में काम करने वाली सभी महिलाएं हैं, जो दोपहिया वाहनों के ज़रिए कॉरपोरेट गिफ़्ट, किराने का सामान, फूल और अन्य चीजें वितरित करता है. रेवती रॉय एशिया की पहली महिला टैक्सी सेवा शुरू करने के लिए भी जानी जाती हैं. वर्तमान में वो भारत सरकार के 'अटल इनोवेशन मिशन' से जुड़ी हैं.

Source: legalwiz

3- पिंकी प्रमाणिक

फ़िल्म निर्माता अशोक पंडित ने एशियाई खेलों की स्वर्ण पदक विजेता पिंकी प्रमाणिक के जीवन पर आधारित एक फ़िल्म बनाने की घोषणा की है. पिंकी ने साल 2006 में 400 मीटर रिले स्पर्धा में एशियाई खेलों के 'स्वर्ण पदक' और राष्ट्रमंडल खेलों के 'रजत पदक' जीता था. साल 2012 में वो एक जेंडर विवाद में फंस गई थीं, जब उनकी महिला मित्र ने उन पर बलात्कार का आरोप लगाया था. इसके बाद पिंकी को 25 दिनों की जेल की सजा हुई थी. साल 2014 में कलकत्ता उच्च न्यायालय ने उन्हें बलात्कार के आरोपों से मुक्त कर दिया था.

Source: deccanherald

4- सैयद अब्दुल रहीम

पूर्व भारतीय फ़ुटबॉलर सैयद अब्दुल रहीम के जीवन पर मैदान नामक फ़िल्म बनाने जा रही है. इस फ़िल्म में अजय देवगन मुख़्य भूमिका में होंगे. वो सैयद अब्दुल रहीम के कोच के रूप में नज़र आएंगे जिनकी बदौलत अब्दुल रहीम ने भारतीय फ़ुटबॉल को नई ऊंचाइयों तक पहुंचाया. सन 1951 और 1962 में एशियाई खेलों को जीतने के अलावा भारत 1956 के मेलबर्न ओलंपिक के सेमीफ़ाइनल में भी पहुंचा, जिसे आज भी फ़ुटबॉल में भारत की सबसे बड़ी उपलब्धि माना जाता है.

Source: stuffunknown

5- विजय बरसे

'स्लम सॉकर' नामक एनजीओ के संस्थापक विजय बरसे की ज़िंदगी पर भी जल्द ही 'झुंड' नाम की एक फ़िल्म बनने जा रही है. इस फ़िल्म में अमिताभ बच्चन विजय बरसे की भूमिका निभाते नजर आएंगे. इस फ़िल्म से मराठी के प्रसिद्ध निर्माता नागराज मंजुले बॉलीवुड में डेब्यू करने जा रहे हैं. विजय बरसे ने झुग्गी-झोपड़ी के कई बच्चों को ग़रीबी और नशीली दवाओं की लत से बाहर निकालने का काम किया है.

Source: wikibio

6- 'लिज्जत पप्पड़' की 7 सहेलियां  

आशुतोष गोवारिकर जल्द ही भारत के मशहूर 'लिज्जत पापड़' बनाने वाली की 7 सहेलियां के जीवन पर आधारित फ़िल्म बनाने जा रहे हैं. 'लिज्जत पापड़' की शुरूआत सन 1959 में 7 सहेलियों ने मिलकर की थी. मुंबई निवासी जसवंती बेन और उनकी 6 सहेलियों पार्वतीबेन रामदास ठोदानी, उजमबेन नरानदास कुण्डलिया, बानुबेन तन्ना, लागुबेन अमृतलाल गोकानी, जयाबेन विठलानी मिलकर घर पर पापड़ बनाने की शुरूआत की. इन 6 महिलाओं के अलावा एक महिला को पापड़ बेचने की ज़िम्मेदारी दी गई थी. इस फ़िल्म में कियारा आडवाणी फिल्म में मुख्य भूमिका में होंगी.

Source: shouts

7- ब्रिगेडियर बलराम सिंह मेहता

सन 1971 भारत-पाक युद्ध के नायक ब्रिगेडियर बलराम सिंह मेहता के जीवन पर भी जल्द ही 'Pippa' नामक फ़िल्म बनने जा रही है. इसमें ईशान खट्टर मुख्य भूमिका में दिखाई देंगे. ये फ़िल्म 'द बर्निंग चाफ्स' नामक किताब पर आधारित है. ये फ़िल्म 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान टैंक क्रू की वीरता और बहादुरी को पर्दे पर लाएगी.

Source: youtube

8- सी शंकरन नायर 

करण जौहर ने हाल ही में 'भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस' के पूर्व अध्यक्ष सी शंकरन नायर पर एक फ़िल्म की घोषणा की है. 'The Untold Story of C Sankaran Nair' नाम से बन रही ये फ़िल्म उस प्रसिद्ध अदालती लड़ाई को उजागर करेगी जो नायर ने जलियांवाला बाग नरसंहार के बारे में सच्चाई को उजागर करने के लिए ब्रिटिश राज के ख़िलाफ़ लड़ी थी.