सौरभ शुक्ला (Saurabh Shukla) का ज़िक्र हिंदी फ़िल्म जगत के उन चुनिंदा कलाकारों में होता है जो अपनी दमदार एक्टिंग से हर किरदार को यादगार बना देते हैं. शुक्ला जी एक ऐसे कलाकार जो हर जॉनर की फ़िल्म में फिट बैठने की काबिलियत रखते हैं. बॉलीवुड में ऐसा कम ही देखने को मिलता है. कॉमेडी से भरपूर फ़िल्म हो या फिर क्रिमिनल ड्रामा सौरभ शुक्ला अपने अभिनय से वाह-वाही बटोर ही लेते हैं. आज बॉलीवुड फ़िल्मों में उनके द्वारा निभाये कई किरदार दर्शकों के दिल के बेहद क़रीब हैं, फिर चाहे वो सत्या फ़िल्म का ‘कल्लू मामा’ हो या फिर जॉली एलएलबी का ‘जज त्रिपाठी’.

ये भी पढ़ें: कभी की मज़दूरी तो कभी सड़कों पर बेचे पेन, आज करोड़ों की संपत्ति के मालिक हैं कॉमेडी किंग जॉनी लीवर

starsunfolded

असल ज़िन्दगी में कौन हैं सौरभ शुक्ला?

सौरभ शुक्ला (Saurabh Shukla) का जन्म 5 मार्च, 1963 को यूपी के गोरखपुर में हुआ था. उनके पिता शत्रुघ्न शुक्ला आगरा घराने के लोकप्रिय गायक थे, जबकि मां जोगमाया शुक्ला भारत की पहली महिला तबला वादक थीं. जब वो केवल 2 साल के थे तब उनका परिवार गोरखपुर से दिल्ली शिफ़्ट हो गया था. दिल्ली में ही उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा पूरी की इसके बाद दिल्ली के ‘खालसा कॉलेज’ से स्नातक की पढ़ाई की.सौरभ शुक्ला को बचपन से ही एक्टिंग का शुआक था. इसलिए साल 1984 में थिएटर जॉइन कर लिया.

सौरभ शुक्ला (Saurabh Shukla)

freepressjournal

‘बैंडिट क्वीन’ फ़िल्म से किया बॉलीवुड में डेब्यू

सौरभ शुक्ला (Saurabh Shukla) ने साल 1984 से 1991 तक कई नाटकों में काम किया. इसके बाद साल 1991 में ही उन्होंने बतौर एक्टर नेशनल स्कूल ऑफ़ ड्रामा (NSD) के प्रोफ़ेशनल विंग को जॉइन किया. इसके अगले ही साल उनके काम से प्रभावित होकर निर्देशक शेखर कपूर ने उन्हें अपनी फ़िल्म ‘बैंडिट क्वीन’ में मौका दिया. इस फ़िल्म में उन्होंने ‘कैलाश’ का किरदार निभाया था. ये सौरभ शुक्ला की डेब्यू फ़िल्म थी. इसके बाद उन्होंने ‘तहकीकात’, ‘9 मालाबार हिल’ और ‘मुल्ला नसीरुद्दीन’ धारावाहिकों में भी काम किया.

indiatimes

जीत चुके हैं नेशनल अवॉर्ड

सौरभ शुक्ला (Saurabh Shukla) साल 2014 में ‘जॉली एलएलबी’ फ़िल्म में अपनी दामदार एक्टिंग के लिए सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता का ‘राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार’ जीत चुके हैं. वो ख़ासतौर पर सत्या (1998), मोहब्बतें (2000), युवा (2004), Xcuse Me (2003), लगे रहो मुन्ना भाई (2006), स्लमडॉग मिलिनियर (2008), ये साली ज़िंदगी (2011), बर्फ़ी (2012), जॉली एलएलबी (2013), किक (2014), पीके (2014), जॉली एलएलबी 2 (2017) और रेड (2018) जैसी फ़िल्मों निभाये गए अपने दमदारों के लिए जाने जाते हैं.

indiatimes

चलिए आज सौरभ शुक्ला (Saurabh Shukla) के 10 ऐसे ही आइकॉनिक किरदारों का ज़िक्र कर लेते हैं जिन्हें उन्होंने अपनी लाज़वाब एक्टिंग से यादगार बना दिये हैं.

1- सत्या

राम गोपाल वर्मा द्वारा निर्देशित ‘सत्या’ फ़िल्म में सौरभ शुक्ला ने ‘कल्लू मामा’ का अहम किरदार निभाया था. ये किरदार इतना हिट हुआ कि आज भी उन्हें फ़ैंस ‘कल्लू मामा’ के नाम से ही जानते हैं. इस फ़िल्म की ख़ास बात ये थी कि इसकी कहानी सौरभ शुक्ला और अनुराग कश्यप ने लिखी थी. सौरभ शुक्ला शानदार लेखन और दमदार एक्टिंग की वजह से इस फ़िल्म ने कई पुरस्कार अपने नाम किए.

2- नायक

अनिल कपूर और रानी मुखर्जी स्टारर इस फ़िल्म में सौरभ शुक्ला ने मुख्यमंत्री बने अमरीश पुरी के खास आदमी ‘पांडुरंगा’ का किरदार निभाया था, जो उनके गलत कामों में उनका साथ देता है. अमरीश पुरी, अनिल कपूर और परेश रावल की मौजूदगी के बावजूद उन्होंने अपने अभिनय से दर्शकों को ख़ूब हंसाया.

3- बर्फ़ी

अनुराग बासु की इस बेहतरीन फ़िल्म को खासतौर पर रणबीर कपूर और प्रियंका चोपड़ा की दमदार एक्टिंग के लिए जाना जाता है. लेकिन फ़िल्म ‘इंस्पेक्टर सुधांशु दत्ता’ के किरदार को भी दर्शकों ने काफ़ी पसंद किया था, जिसे सौरभ शुक्ला ने निभाया था. इस फ़िल्म के लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता के आईफ़ा अवॉर्ड के लिए नामांकित किया गया था.

4- जॉली एलएलबी 

अरशद वारसी स्टारर ‘जॉली एलएलबी’ फ़िल्म में सौरभ शुक्ला द्वारा निभाए किरदार उनके करियर का अब तक का बेस्ट किरदार है. इस फिल्म में उन्होंने जस्टिस सुंदरलाल त्रिपाठी का आइकॉनिक किरदार निभाया था. जिसके लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता का ‘राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार’ भी मिला था.

5- लगे रहो मुन्ना भाई

सौरभ शुक्ला ने साल 2006 में रिलीज़ हुई ‘लगे रहो मुन्ना भाई’ फ़िल्म में ‘बटुक महाराज’ की भूमिका निभाई थी, जो बेहद मज़ेदार थी. राजकुमार हिरानी की इस बेहतरीन फ़िल्म में संजय दत्त, अरशद वारसी और विद्या बालन मुख्य भूमिकाओं में नज़र आये थे.

6- स्लमडॉग मिलियनेयर 

सौरभ शुक्ला ने ‘स्लमडॉग मिलियनेयर’ फ़िल्म में ‘हेड कांस्टेबल श्रीनिवास’ का यादगार किरदार निभाया था. मुंबई की झुग्गियों में बनी इस हॉलीवुड फ़िल्म में देव पटेल, फ्रीडा पिंटो और अनिल कपूर मुख्य भूमिका में थे. इस मूवी ने कई ऑस्कर अवॉर्ड अपने नाम किये थे.  

7- पीके

राजकुमार हिरानी की इस बेहतरीन फ़िल्म में आमिर ख़ान के बाद सौरभ शुक्ला के अभिनय की सबसे ज़्यादा तारीफ़ हुई थी. इस फिल्म की कहानी एक एलियन के इर्द-गिर्द घूमती है, जो पृथ्वी की बुराइयों से जूझता है. फ़िल्म में सौरभ शुक्ला ने ‘तपस्वी महाराज’ की भूमिका निभाई थी.

8- जॉली एलएलबी 2 

सौरभ शुक्ला ‘जॉली एलएलबी’ की तरह ही ‘जॉली एलएलबी 2’ में भी जस्टिस सुंदरलाल त्रिपाठी की भूमिका में ही दिखाई दिये थे. पिछली फ़िल्म की तरह ही इस फ़िल्म में भी उन्होंने अपने दमदार पंच लाइन से इस किरदार को यादगार बना दिया. इस फ़िल्म में अक्षय कुमार, हुमा कुरैशी और अनु कपूर लीड रोल में नज़र आये थे.

9- बाला 

आयुष्मान खुराना, यामी गौतम और भूमि पेडनेकर स्टारर इस फ़िल्म में सौरभ शुक्ला ने बालमुकुंद ‘बाला’ शुक्ला (आयुष्मान) के पिता ‘हरि शुक्ला’ की भूमिका निभाई थी. इस छोटे से किरदार को भी उन्होंने अपनी पर्सनालिटी और ह्यूमर से मज़ेदार बना दिया था.

ये भी पढ़ें: 20 साल पहले टीवी के सबसे बड़े स्टार हुआ करते थे अमन वर्मा, जानिए वो अब कहां हैं

10- रेड  

अजय देवगन और इलियाना डी’क्रूज़ स्टारर इस फ़िल्म में सौरभ शुक्ला ने बाहुबली ‘रामेश्वर सिंह उर्फ़ ताऊजी’ का दमदार किरदार निभाया था. अजय देवगन के बाद फ़िल्म को पूरा दारोमदार सौरभ शुक्ला के ऊपर था, लेकिन उन्होंने अपनी लाज़वाब एक्टिंग से ‘ताऊजी’ के किरदार को यादगार बना दिया.  

indiatimes

बताइये इनमें से आपको सौरभ शुक्ला द्वारा निभाया गया सबसे बेहतरीन किरदार कौन सा लगा?