इस वक़्त देश के हालातों से हर कोई वाज़िब है. कोने-कोने में छात्र आंदोलन जारी है, जिस वजह से देश दो हिस्सों में बंटा हुआ दिखाई दे रहा है. एक गुट सरकार के साथ है, तो दूसरा छात्रों के सपोर्ट में आवाज़ उठा रहा है. ये तो बात हुई रियल लाइफ़ की. पर रील में भी बहुत सी ऐसी फ़िल्में हैं, जिनमें सिस्टम के ख़िलाफ़ प्रोटेस्ट करते हुए दिखाया गया है.

ये फ़िल्में मिस तो नहीं की हैं:

1. 'वेल डन अब्बा'

फ़िल्म का निर्देशन श्याम बेनेगल ने किया था, जिसके मुख्य कलाकार बोमन ईरानी और मिनिषा लांबा थे. फ़िल्म में सामाजिक मुद्दों को बाख़ूबी दर्शाने के लिये इसे नेशनल अवॉर्ड भी दिया गया था.

well-done-abba
Source: outlookindia

2. 'रंग दे बसंती'

ये फ़िल्म राकेश ओमप्रकाश मेहरा की बेहतरीन फ़िल्मों में से एक थी. फ़िल्म की कहानी देश के क्रांतिक्रारियों और क्रांति के ईद-गिर्द घूमती है. फ़िल्म को दर्शकों की ख़ूब सराहना मिली और बॉक्स ऑफ़िस पर अच्छा कलेक्शन भी किया.

rang-de-basanti
Source: upperstall

3. 'सत्याग्रह'

फ़िल्म में इतिहास की कुछ कहानियों को दिखाया गया है. इसके अलावा भ्रष्टाचार के मुद्दों को भी बाख़ूबी दिखाया गया है. अगर फ़िल्म अब तक नहीं देखी है, तो अब देख लेनी चाहिये. फ़िल्म के मुख्य कलाकार अजय देवगन, करीना कपूर और अमिताभ बच्चन थे.

Satyagraha
Source: timesofindia

4. 'द लीजेंड ऑफ़ भगत सिंह'

अजय देवगन स्टारर ये फ़िल्म इंडिया के फ़्रीडम फ़ाइटर भगत सिंह पर आधारित थी. देश को आज़ादी दिलाने के लिये हमारे फ़्रीडम फ़ाइटर ने किस तरह संघर्ष किया है, ये जानने के लिये इस फ़िल्म को देखना ज़रूरी है.

The Legend of Bhagat Singh
Source: youtube

5. 'नो वन किल्ड जेसिका'

फ़िल्म विद्या बालन और रानी मुखर्जी ने मुख्य किरदार निभाया था. फ़िल्म की कहानी 1999 में हुए जेसिका लाल मर्डर केस पर आधारित थी. जिसे न्याय दिलाने के लिये काफ़ी बड़े लेवल पर प्रोटस्ट किया गया था.

No One Killed Jessica
Source: pinkvilla

6. 'आरक्षण'

इस मुद्दे पर सदियों से अंतहीन बहस चली आ रही है. इसी मुद्दे पर प्रकाश झा ने ये फ़िल्म बनाई थी. फ़िल्म के मुख्य कलाकार दीपिका पादुकोण, सैफ़ अली ख़ान और अमिताभ बच्चन थे.

aarakshan
Source: hollywoodreporter

7. 'युवा'

फ़िल्म की कहानी एक ऐसे स्टूडेंट लीडर की है, जो सिस्टम को बदलना चाहता है. अजय देवगन ने फ़िल्म का लीड रोल किया था.

yuva
Source: upperstall

ये फ़िल्में ही नहीं, इतिहास गवाह है जब-जब सिस्टम के ख़िलाफ़ प्रोटेस्ट किया गया है, सरकारें हिल गई हैं.

Entertainment के और आर्टिकल पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.