Bollywood Movie Same Title: किसी मूवी (Movie) का टाइटल रखना, उतना आसान काम नहीं है, जितना कि लोग समझते हैं. कई बार मूवी की कहानी का लेखक ‘टाइटल’ पूरी टीम के सामने पेश करता है, लेकिन अगर ये टीम को सही नहीं लगता है, तो उसे हटा दिया जाता है. कभी-कभी बॉलीवुड फ़िल्ममेकर्स को जब कोई भी टाइटल सही नहीं लगता है, तो वो अक्सर ऐसा ‘टाइटल’ चुन लेते हैं, जो अतीत में इस्तेमाल किया जा चुका है. ऐसा कई बार हुआ है, जब फ़िल्ममेकर्स ने पुरानी मूवी का ही टाइटल नेम नई मूवी का भी रख दिया है. 

आइए आपको बॉलीवुड फ़िल्मों के उन टाइटल्स के बारे में बताते हैं, जो काफ़ी बार हिंदी फ़िल्मों में इस्तेमाल हो चुके हैं. 

1. लैला मजनू (8 बार)

इस टाइटल को 8 बार बॉलीवुड ने यूज़ किया जा चुका है. हालांकि, इसका यूज़ इस टाइटल के बाद या पहले कुछ शब्दों को जोड़कर किया गया है. पहली 3 बार ये टाइटल साइलेंट युग में यूज़ किया गया. इसके बाद 1941 में इस नाम की एक फ़िल्म आई, फिर 1945 में आई, जिसमें नज़ीर और स्वर्णलता लीड रोल्स में थे. 1953 में शम्मी कपूर और नूतन ने सेम टाइटल की नई फ़िल्म में काम किया. इसके बाद 1976 में ऋषि कपूर और 2018 में अविनाश तिवारी और तृप्ति डिमरी इस नाम की फ़िल्म में नज़र आए थे. 

Bollywood Movie Same Title
thehindu

ये भी पढ़ें: ये हैं वो 25 बॉलीवुड स्टार्स, जिन्होंने एक्टिंग में करियर बनाने के लिए बदल लिया था अपना नाम

2. इंसाफ़ (9 बार)

‘इंसाफ़’ मूवी पहली बार 1925 में रिलीज़ हुई थी, इसके बाद ये 1937 में आई, जिसमें लीला चिटनिस लीड रोल में थीं. साल 1946 में लोगों ने फनी मज़मूदार को फिर से ये टाइटल यूज़ करते हुए देखा. 1956 में केदार कपूर की अजीत और नलिनी जयवंत स्टारर इंसाफ़ आई और उसके बाद 1966 में पृथ्वीराज कपूर और दारा सिंह की एक्शन ड्रामा इंसाफ़ आई. इसके बाद 1973, 1987, 1997 और 1994 में इस टाइटल से अलग-अलग फ़िल्में रिलीज़ की गईं.

zee5

3. हीर रांझा (7 बार)

एक और टाइटल जो काफ़ी समय से चला आ रहा है, वो ‘हीर रांझा‘ है. ये बॉलीवुड फ़िल्मों में अब तक 7 बार यूज़ हो चुका है. साइलेंट युग के दौर में डायरेक्टर आर एस चौधरी ने 1929 में रूबी मेयर्स और डिनशॉ बिलमोरिया स्टारर ‘हीर रांझा’ रिलीज़ की थी. इसके बाद 1939, 1948, 1970 और 1992 आदि सालों में भी इसी नाम से मूवीज़ आई थीं. 

cinestaan

4. इंतकाम (8 बार)

फ़िल्म का टाइटल ‘इंतकाम‘ 8 बार अलग-अलग फ़िल्ममेकर्स द्वारा यूज़ किया गया है. पहली बार 1930 में इसे इस्तेमाल किया गया. इसके बाद 1933 में इस नाम से एक फ़िल्म आई. फिर 1969 में संजय ख़ान और साधना स्टारर ‘इंतकाम‘ सुपरहिट साबित हुई. इसके 19 साल बाद राजकुमार कोहली स्टारर ‘इंतकाम’ 1988 में आई. फिर 2001 में हमने फ़िल्म ‘इंतकाम’ में अनिल कपूर और सनी देओल को देखा. आंठवी बार ये टाइटल 2001 में यूज़ किया गया. 

jiocinema

5. तूफ़ान (7 बार)

बॉलीवुड फ़िल्ममेकर्स द्वारा सबसे ज़्यादा यूज़ किए गए टाइटल में ‘तूफ़ान’ का नाम भी शामिल है. हालांकि, इस टाइटल की मूवीज़ में आगे और पीछे भी शब्द लगाए गए थे. इसमें ‘तूफ़ान मेल’, ‘आंधी तूफ़ान’, आया तूफ़ान’, ‘बिजली और तूफ़ान’, ‘तूफ़ान क्वीन‘ समेत कई फ़िल्में शामिल हैं. लेकिन बतौर टाइटल ‘तूफ़ान’ पहली बार 1931 में यूज़ किया गया था. 2021 में भी फ़रहान अख्तर की स्पोर्ट्स ड्रामा फ़िल्म ‘तूफ़ान‘ के नाम से रिलीज़ हुई थी.  

ये भी पढ़ें: इन 20 बॉलीवुड फ़िल्मों को देखने के बाद कभी नहीं कहोगे कि बॉलीवुड में सिर्फ़ मसाला मूवीज़ ही बनती हैं

6. क़िस्मत (7 बार)

‘क़िस्मत’ टाइटल पहली बार डायरेक्टर बाबूराव पटेल ने 1932 में आई फ़िल्म में यूज़ किया था. दूसरी बार ये टाइटल अशोक कुमार की इसी नाम की ब्लॉकबस्टर फ़िल्म में इस्तेमाल किया गया था. फिर 1956, 1980, 1995 और 2004 में आई मूवीज़ में यूज़ किया गया.

huffpost

7. दुश्मन (6 बार)

हिंदी फ़िल्मों में ‘दुश्मन’ का टाइटल 6 बार यूज़ किया गया था. पहली बार ‘दुश्मन’ का टाइटल 1939 में डायरेक्टर नितिन बोस द्वारा इस्तेमाल में लाया गया था. इसके बाद 1950, 1957, 1990 और 1998 में भी इस नाम की फ़िल्में रिलीज़ की गई थीं. 

cinemaexpress

8. अंजाम (6 बार)

‘अंजाम’ फ़िल्म का टाइटल 6 बार यूज़ किया गया था. पहली बार इसे 1940 में डायरेक्टर कांजीभाई राठौर ने यूज़ किया था. इसके बाद 1952, 1968, 1978, 1987, 1994 में भी इस नाम की फ़िल्में आई थीं. 1987 की अंजाम का निर्देशन टी. हरिहरन ने किया था और इसमें हेमा मालिनी, शशि कपूर, राजन सिप्पी और परीजात ने अभिनय किया था, जबकि 1994 की अंजाम का निर्देशन राहुल रवैल ने किया था और इसमें शाहरुख ख़ान, माधुरी दीक्षित और दीपक तिजोरी ने अभिनय किया था.

क्या आप इस बारे में जानते थे?