हम फ़िल्में क्यों देखते हैं? ज़ाहिर सी बात है कि अपने मनोरंजन के लिये. हांलाकि, वो बात और है कि बॉलीवुड में बनने वाली हर फ़िल्म हमारे मनोरंजन के लिये नहीं होती. हमारे देश में बहुत सी अलग-अलग फ़िल्म्स बनती हैं, जिनका अपना एक मक़सद होता है. इनमें से कुछ फ़िल्म्स प्रोपेगेंडा के तहत बनाई जाती हैं, तो वहीं कुछ मूवीज़ हमें शिक्षित करने के लिये बनाई जाती हैं.

Phir Hera Pheri
Source: IndiaToady

इसके अलावा कुछ फ़िल्में कॉर्मशियल होती हैं, जो कि हमें एंटरटेन भी करती हैं. वहीं कुछ फ़िल्म्स ऐसी भी होती हैं, जिसमें आर्ट और एंटरटेनमेंट का मिश्रण होता है.

Thackeray
Source: Scroll

अगर प्रोपेगेंडा के तहत बनाई गई फ़िल्मों की बात की जाये, तो उदाहरण के तौर पर कुछ समय पहले बनी इन बायोपिक्स को ले सकते हैं.

1. 'संजू'

2. 'ठाकरे'

3. 'पीएम मोदी'

4. 'द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर'

नेता-अभिनेता पर बनी ये बायोपिक दर्शकों के मनोरंजन के लिये नहीं, बल्कि एक प्रोपेगेंडा के तहत बनाई गई थी. इन बायोपिक्स में दर्शकों के सामने नेताओं-अभिनेता की साफ़ छवि पेश की गई. कोई भी इंसान पूरी तरह सही नहीं हो सकता, पर इन फ़िल्म्स में जो दिखाया गया है, वो आप सब साफ़ देख सकते हैं.

Padman
Source: IndiaToday

अब बात करते हैं समाज को शिक्षित करने वाली फ़िल्मों की:

1. 'पैडमैन'

2. 'तारे ज़मीन पर'

3. 'माई नेम इज़ कलाम'

4. 'टॉयलेट एक प्रेम कथा'

बॉलीवुड की ये फ़िल्में आज हमारे ज़हन में इसलिये हैं, क्योंकि इनसे समाज को एक मैसेज देने की कोशिश की गई. दर्शकों को इन फ़िल्म्स से कुछ न कुछ सीखने को मिला.

padmaavat
Source: Indiatoday

वहीं अगर Historical ड्रामा पर आधारित फ़िल्मों का उदाहरण दिया जाये, तो वो इस प्रकार रहीं:

1. 'पद्मावत'

2. 'केसरी'

3. 'पृथ्वीराज' (आगामी)

4. 'बाजीराव मस्तानी'

इसके साथ ही 'दंगल' जैसी प्रेरणादायक बायोपिक भी बनी हैं, जिन्होंने हमें कुछ सिखाने के साथ-साथ एंटरटेन भी किया है. वहीं 'उड़ता पंजाब' में हमने पंजाब के युवाओं को वो रूप देखा, जिसमें वो ड्रग्स के नशे में चूर-चूर दिखाये गये.

Uri
Source: HT

इसके अलावा कुछ फ़िल्में देशभक्ति पर भी बनती हैं, जैसे:

1. 'उरी'

2. 'बाटला हाउस'

3. 'बेबी'

4. 'बॉर्डर'

वहीं कुछ फ़िल्में हमारे देश के खेल और खिलाड़ियों पर भी बनी:

1. 'सूरमा'

2. 'चक दे इंडिया'

3. 'मैरी कॉम'

4. 'एम. एम. धोनी'

ये तो बस कुछ ही फ़िल्मों के नाम थे. इसके अलावा भी बहुत सी ऐसी फ़िल्में हैं जिन्हें किसी मक़सद से बनाया गया. फिर चाहे वो राजनीति से जुड़ी हुई हों, या सामाजिक मुद्दों से.

आपका किस फ़िल्म ने मनोरंजन किया कमेंट में बताना.

Entertainment के और आर्टिकल पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.