Bollywood News: पिछले कुछ सालों से हॉलीवुड में बॉलीवुड फ़िल्मों की काफी चर्चा होने लगी है. दुनियाभर में बॉलीवुड स्टार्स की लोकप्रियता के चलते हॉलीवुड के निर्माता-निर्देशक भारतीय कलाकारों को अपनी फ़िल्मों में काम देने लगे हैं. अमिताभ बच्चन, प्रियंका चोपड़ा, इरफ़ान ख़ान, ऐश्वर्या राय, अनिल कपूर, दीपिका पादुकोण, अनुपम खेर, नसीरुद्दीन शाह, ओम पुरी और तब्बू समेत कई बॉलीवुड एक्टर्स हॉलीवुड फ़िल्मों में काम कर चुके हैं. जबकि कई हॉलीवुड स्टार्स भी बॉलीवुड फ़िल्मों में नज़र आ चुके हैं.

Source: google

आज हम आपको एक ऐसे भारतीय एक्टर बताने जा रहे हैं जिसने पहली बार हॉलीवुड में कदम रखा था. इनका नाम 'साबू दस्तगीर' था. हॉलीवुड में 'Elephant Boy' के नाम से मशहूर साबू हॉलीवुड फ़िल्मों में कदम रखने वाले पहले इंडियन एक्टर ही नहीं, बल्कि सन 1960 में प्रतिष्ठित 'Hollywood Walk of Fame' में भी शामिल होने वाले पहले भारतीय कलाकार भी थे.

Source: google

साबू दस्तगीर ने सन 1930-40 के दशक में हॉलीवुड (अमेरिकन और ब्रिटिश) फ़िल्मों में बड़े पैमाने पर लोकप्रियता हासिल की थी. साबू ने 13 साल की उम्र में पहली बार हॉलीवुड फ़िल्मों में शुरुआत की थी. सन 1934 में 'Elephant Boy' फ़िल्म की शूटिंग के सिलसिले में भारत आये अमेरिकन फ़िल्म मेकर Robert J. Flaherty और उनकी पत्नी Frances Flaherty ने खोज निकाला था.

Source: google

साबू दस्तगीर का जन्म 27 जनवरी 1924 को मैसूर के कारापुर में हुआ था. उनके पिता मैसूर के महाराजा के लिए महावत का काम किया करते थे. कम उम्र में ही पिता को खोने के बाद साबू ने अपना काफ़ी समय हाथी के अस्तबल में बिताया. इस दौरान फ़िल्म मेकर Robert J. Flaherty ने अपनी फ़िल्म 'Elephant Boy' में साबू को महावत की मुख्य भूमिका में कास्ट कर लिया. 

Source: google

ये फ़िल्म मशहूर लेखक रुडयार्ड किपलिंग की शॉर्ट स्टोरी 'Toomai of the Elephants' पर आधारित थी. इसकी कहानी युवा महावत के बारे में थी जो हाथियों के साथ ही अपनी ज़िंदगी बिताता था. ये फ़िल्म बॉक्स ऑफ़िस पर सुपर हिट साबित हुई और साबू रातों-रात स्टार बन गए. इस फ़िल्म में क्रिटिक्स ने साबू की एक्टिंग की जमकर सराहना की.

Source: google

इसके बाद साबू को हॉलीवुड और ब्रिटिश फ़िल्मों में लीड रोल मिलने लगे. इस दौरान उन्होंने कई ब्रिटिश और अमेरिकी फ़िल्मों जैसे 'द ड्रम (1938), थीफ़ ऑफ़ बगदाद (1940), जंगल बुक (1942), अरेबियन नाइट्स (1942), कोबरा वुमन (1944), सॉन्ग ऑफ़ इंडिया (1949) में प्रमुख मुख्य भूमिकाएं निभाईं. इसके अलावा भी उन्होंने कई अन्य फ़िल्में की.

Source: google

नहीं की एक भी बॉलीवुड फ़िल्म

साबू ने किसी भी हिंदी फ़िल्म में अभिनय नहीं किया और उनकी अधिकांश लोकप्रियता हॉलीवुड फ़िल्मों में ही मिली. इस दौरान हॉलीवुड में उन्हें इस कदर प्यार मिला कि वो हमेशा के लिए वहीं की हो गए. सन 1938 की 'The Drum' फ़िल्म में उन्होंने 'प्रिंस अजीम' की भूमिका निभाई थी, जिसे भारत में काफ़ी सराहा गया था. 

Source: google

'मदर इंडिया' में लीड रोल करने से किया इंकार 

सन 1957 में बॉलीवुड के मशहूर फ़िल्म निर्माता महबूब ख़ान ने साबू को क्लासिक फ़िल्म 'मदर इंडिया' में मुख्य भूमिका निभाने का ऑफ़र दिया था, लेकिन साबू ने इंकार कर दिया. बाद में वो किरदार अभिनेता सुनील दत्त ने निभाया था. ये फ़िल्म ठुकराने के पीछे कारण ये थे कि साबू उस वक़्त अमेरिकी नागरिक बन चुके थे और भारत में वर्क परमिट हासिल करने में असमर्थ थे.

Source: google

'हीरो' से बन गए थे 'वॉर हीरो'  

साबू केवल 'हीरो' ही नहीं, बल्कि 'वॉर हीरो' भी थी. सन 1944 में अमेरिकी नागरिक बनने के बाद वो 'द्वितीय विश्व युद्ध' के दौरान अमेरिकी वायु सेना में शामिल हो गए. इस दौरान उन्होंने 'B-24 Aircraft' में Tail Gunner और Ball Turret Gunner के तौर पर काम किया. साबू की इस सेवा के लिए उन्हें 'विशिष्ट फ्लाइंग क्रॉस' और अन्य सैन्य पुरस्कारों से भी सम्मानित किया गया था.

Source: google

2 दिसंबर 1963 को केवल 39 साल की उम्र में साबू का अमेरिका के लॉस एंजिल्स में दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया था. साबू ने अमेरिकी अभिनेत्री मर्लिन कूपर से शादी की थी, जिनसे उनके 2 बच्चे हैं. साबू की आख़िरी फ़िल्म 'A Tiger Walks' थी, जिसमें उन्होंने एक भारतीय पशु प्रशिक्षक की भूमिका निभाई थीये फ़िल्म मार्च 1964 में उनके निधन के 3 महीने बाद रिलीज़ हुई थी.